EVM में गड़बड़ी करके भाजपा जीतेगी चुनाव,दिग्गज नेता के खुलासे से हडकंप

टिकट बटवारे में खीचतान और मनमुटाव की खबरे कांग्रेस और भाजपा दोनों दलों की तरफ से आ रही है.जहाँ तक बात कांग्रेस पार्टी की है तो मध्य प्रदेश हो या राजस्थान कांग्रेस में गुटबाजी की खबरे तेज़ी से उछल रही है,इन सभी खबरों पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक इंटरव्यू में इन सब बातो पर अपनी राय रखी.
दिग्विजय सिंह ऐसे आरोपों से इंकार करते है उनका कहना है कि कांग्रेस में कोई गुटबाजी नही है,हम सब मिलकर लड़ रहे है.कांग्रेस में इस बार हर नेता की कोशिश है उनके हलके से ज्यादा से ज्यादा विधायक जीत के आये.दिग्विजय सिंह ने शिवराज चौहान को अकेला बताया और कांग्रेस को एकजुट. दिग्विजय सिंह ने साफ़ किया कि वो खुद सीएम पद की दौड़ में नही है.

फोटो क्रेडिट -moneycontrol

इस बीच कांग्रेस नेता ने कहाकि भाजपा की स्थिति बेहद खराब है लेकिन इस हार को टालने के लिए भाजपा कांटे की टक्कर वाली सीटो पर EVM में गड़बड़ी करके चुनाव जीत सकती है. दिग्विजय सिंह ने कहा कि 2003 में राज्य में कांग्रेस चुनाव हार गई थी. 2008 और 2013 के चुनावों में वह राज्य में उतना नहीं घूमें थे, जितना इस बार चुनाव से पहले और अब घूम चुके हैं.दिग्विजय सिंह के मुताबिक करीब साढ़े तीन हजार किलोमीटर की नर्मदा यात्रा के दौरान उन्होंने राज्य के 104 विधानसभा क्षेत्रों में पदयात्रा की.
Photo Credit-jansatta

उन्होंने कहाकि सीएम शिवराज सिंह चौहान के विधानसभा क्षेत्र में 11 दिन पैदल चला.इसके बाद विधानसभा चुनावों के लिए बनी कांग्रेस समन्वय समिति का प्रभारी बनन के बाद राज्य के 52 जिलों में से 43 जिलों में हमारी समिति गई. करीब 200 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा मैं कर चुका हु.इस दौरान मैने कई लोगो से बातचीत की जिनमें आम लोग, कांग्रेस कार्यकर्ता,भाजपा कार्यकर्ता और भाजपा के असंतुष्ट स्थानीय नेताओं से भी बातचीत हुई.साधू संत और आरएसएस के प्रचारकों से भी मेरी बात हुई.
उन्होंने कहाकि हजारो लोगो के बात करने के बाद मैं कह सकता हु प्रदेश में भाजपा के खिलाफ ज़बरदस्त लहर है.लेकिन भाजपा EVM में गड़बड़ी कर सकती है.कांग्रेस नेता ने कहाकि दुनिया में कोई भी मशीन एसी नहीं है जिसमें टेंपरिंग न हो सकती हो.बीजेपी बड़ी चालाकी से चुनी हुई सीटों पर यह काम करती है.उप चुनावों में ईवीएम में टेंपरिंग नहीं हुई. पंजाब में भाजपा का कोई दांव नहीं था, इसलिए वहां भी नहीं हुई.
राजस्थान में हवा कांग्रेस के पक्ष में एकतरफा है, इसलिए वहां नहीं करेंगे वरना शक यकीन में बदल जायेगा.लेकिन मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कुछ सीटों पर जहां कांटे का मुकाबला होगा, वहां ईवीएम में गड़बड़ी कराई जाएगी.कांग्रेस की सरकार बनने पर मुख्यमंत्री कौन होगा, इस सवाल पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र में सीएम की घोषणा चुनाव से पहले करने के वह खिलाफ हैं.यह अधिकार निर्वाचित विधायकों का है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.