UP के सियासी घराने में फूट, ‘बहन जी’ पर लगा ये आरोप

November 10, 2018 by No Comments

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती पर एक बार फिर टिकट के बदले रुपए मांगने का आरोप लगा है। आरोप बसपा से गुरुवार को ही निष्कासित किए गए नेता मुकुल उपाध्याय ने लगाया है। पूर्व एमएलसी मुकुल उपाध्याय ने आरोप लगाया है क्या उन्हें बसपा से निकालने की साजिश उनके ही भाई व पूर्व कैबिनेट मंत्री रामवीर उपाध्याय ने की है। मुकुल उपाध्याय का आरोप है कि अलीगढ़ लोकसभा क्षेत्र से वह बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ना चाहते थे, इसके बदले में बसपा की मुखिया मायावती ने उनसे 5 करोड रुपए मांगे, जब उन्होंने 5 करोड रुपए देने से मना कर दिया तो उनके भाई रामवीर उपाध्याय ने ही यह कहा कि अब मुकुल नहीं बल्कि उनकी पत्नी यानी सीमा उपाध्याय अलीगढ़ लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगी।

मुकुल ने कहा कि वह अगला चुनाव अलीगढ़ लोकसभा क्षेत्र से ही लड़ेंगे अभी वह अपने समर्थकों के बीच में जाएंगे।उन्होंने अपने भाई रामवीर उपाध्याय को रावण की संज्ञा देते हुए कहा कि रामवीर उपाध्याय कभी यह नहीं चाहते थे कि उनका कद बड़े और इसी वैमनस्यता के चलते उन्होंने ही यह पूरी साजिश रची है। उन्होंने रामवीर से अपनी जान को खतरा भी बताया। दरअसल रामवीर छह भाई हैैं, जिनमें चार सियासत में हैैं, दो सरकारी नौकरी में। इनमें चौथे नंबर के भाई मुकल उपाध्याय ने पत्रकारों से कहा कि भाई रामवीर अपनी पत्नी सीमा उपाध्याय को अलीगढ़ सीट से लोकसभा चुनाव लड़ाना चाहते हैैं। ये दोनों छह नवंबर को बसपा अध्यक्ष से मिले और उनके कान भर आए। जबकि, विधानसभा चुनाव के बाद बहनजी ने उन्हें अलीगढ़ से तैयारी को कहा था।

कुछ समय बाद पार्टी कोआॢडनेटरों ने कहा कि बहनजी ने टिकट के लिए पांच करोड़ रुपये जमा कराने को कहा है। मुकुल ने कहा कि ये बात जब उन्होंने भाई रामवीर को बताई तो वह भड़क गए। कहने लगे, यहां से भाभी सीमा को लड़ाएंगे। वहीं मुकुल ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं। मुकुल से जब इस बावत सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है। अब वह पहले अपने समर्थकों से बातचीत करेंगे इसके बाद आगे का निर्णय लेंगे।बसपा के आगरा-अलीगढ़ मंडल के मुख्य जोन इंचार्ज व एमएलसी सुनील चित्तौड़ ने कहा कि मुकुल भाजपा में जाने की तैयारी में थे, इसलिए पार्टी से निकाल दिया। पांच करोड़ मांगने का कोई प्रमाण है तो सामने लाएं। अनर्गल बयानबाजी का कोई तुक नहीं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *