सऊदी अरब में हुआ कमाल, मालामाल हुए…

October 24, 2018 by No Comments

रियाद: सऊदी अरब की राजधानी में फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव(FII) की शुरुआत मंगल के रोज़ हो गयी. पहले दिन हालाँकि विदेश से जितने गेस्ट आने थे उतने नहीं आये लेकिन व्यापारिक तौर पर इसका कोई नुक़सान सऊदी अरब को होता नहीं दिख रहा है. पहले दिन FII में 50 बिलियन डॉलर की डील साइन की गयी.

इवेंट के पहले दिन 12 मेगा डील साइन की गयीं जोकि अपने आप में कमाल है.इस तरह का रेस्पोंस मिलने से सऊदी अरब के आर्थिक जानकारों को भी अब लग गया है कि जमाल खाशोग्गी की हत्-या का मामला देश की अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं डाल सकेगा.सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने ये फोरम 2017 में बनाया था और तब ये ज़बरदस्त तरह से कामयाब रहा था. इस फोरम के ज़रिये सऊदी अरब ने अपनी नई इमेज दुनिया के सामने रखी थी. इस फोरम में सऊदी अरब ने नेओम नामक क्रॉस बॉर्डर सिटी की स्थापना की घोषणा की थी.

जितना कामयाब पिछला फोरम हुआ था, इस बार उम्मीद है कि नहीं होगा. पहले दिन सामने की रो में सीटें ख़ाली देखी गयीं, कई अहम् अतिथि नहीं आये हैं. कई बड़ी कम्पनियों ने इस फोरम में भाग लेने से इनकार कर दिया है जबकि कई बड़े नेताओं ने इस फोरम में आने से मना कर दिया है.HSBC होल्डिंग्स, क्रेडिट सुइस्से और स्टैण्डर्ड चार्टर्ड के चीफ़ एग्जीक्यूटिव ने इस सम्मलेन में भाग लेने से इनकार कर दिया है. जेपी मॉर्गन एंड चेस को चीफ़ एग्जीक्यूटिव जेमी दिमोन और फ़ोर्ड मोटर कंपनी के चेयरमैन बिल फ़ोर्ड ने सऊदी फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव कांफ्रेंस में भाग लेने को स्थगित कर दिया है. कई बड़ी समाचार एजेंसी ने इस कार्यक्रम में भाग लेने से इनकार कर दिया है. विदेशी मीडिया आउटलेट्स भी इस इवेंट का बड़े स्तर पर बायकाट कर रही हैं.

आपको बता दें कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान को एक उदारवादी नेता माना जाता था लेकिन पिछले दिनों उन पर ये आरोप लगे कि वो निरंकुश हैं. जमाल खाशोग्गी भी सऊदी सरकार की आलोचना करते थे, जानकार ये भी कह रहे हैं कि खाशोग्गी के साथ ये इसलिए हुआ क्यूंकि वो सऊदी सरकार के आलोचक थे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *