फ़िलिस्तीनी एकता के लिए हमास और फ़ताह आयेंगे साथ? ये अरब देश कर रहा है कोशिश

फ़िलिस्तीनी एकता के लिए हमास अपनी सरकार को भंग करने का फ़ैसला किया है. हमास ग़ाज़ा पट्टी पर सरकार चलाता है जबकि फ़ताह पार्टी के नेता राष्ट्रपति महमूद अब्बास वेस्ट बैंक पर सरकार बनाए हुए हैं. दोनों ही गुटों में कई मुद्दों पर असहमति रही है जिस वजह से नेशनल यूनिटी की बात अक्सर ठन्डे बस्ते में चली जाती है.

इस बार इस विवाद को सुलझाने की कोशिश मिस्र ने की है. मिस्र के इस क़दम का अब्बास और इस्माइल हन्नियेह ने स्वागत किया है. हमास ने इस बारे में एक बयान जारी करते हुए कहा है कि वो मिस्र के इस उदार रवैया का स्वागत करता है.

2006 में हुए आम चुनाव में हमास ने 132 में से 74 सीटें जीती थीं और ये तय था कि हमास ही सरकार बनाएगा. इसके बाद इस्माइल हनियेह प्रधानमंत्री बने. परन्तु अगले वर्ष ही फ़ताह और हमास में विवाद हो गया और इस विवाद के बाद परिस्तिथि इस प्रकार की हो गयी थी कि गृह युद्ध हो गया.इस गृह युद्ध में हमास ने महत्वपूर्ण जीत हासिल की और ग़ाज़ा स्ट्रिप पर अपनी सरकार बना ली और वेस्ट बैंक में फ़ताह सरकार चलाने लगा.

गौरतलब है कि पूरे दशक ग़ाज़ा को ब्लॉकेड झेलनी पड़ी है जिसकी वजह से ग़ाज़ा पट्टी पर पानी, बिजली, साफ़-सफ़ाई से लेकर कई समस्याएँ हैं. 18 लाख लोगों वाली ग़ाज़ा पट्टी में बेरोज़गारी भी बड़ी समस्या है. जानकारों के मुताबिक़ लगभग सभी परेशानियों की वजह इज़राइल का ग़लत रवैया है.

कुछ अन्य ख़बरें, बस एक नज़र में..

1. ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ चेन्नई में खेले जा रहे पहले एकदिवसीय मैच में भारत ने 19 ओवर में 80/4 रन बना लिए हैं.

2. फ़रहान अख्तर और डायना पेंटी की फ़िल्म लखनऊ सेंट्रल ने दो दिनों में 4 करोड़ 86 लाख की कमाई की है. इसी फ़िल्म के साथ रिलीज़ हुई कंगना रानौत की सिमरन ने 6 करोड़ 53 लाख का कारोबार किया है.दोनों ही फ़िल्मों को क्रिटिक्स ने बहुत पसंद नहीं किया है.

3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 67 वर्ष के हो गए. उनके जन्मदिन के अवसर पर उन्हें लगातार शुभकामनाएँ मिल रही हैं. कई विपक्षी नेताओं ने भी उन्हें इस अवसर पर शुभकामनाएँ दीं. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी, पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत कई नेताओं ने उन्हें ट्विटर के ज़रिये शुभकामनाएँ दीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.