सर्वे में सामने आया: फ़्रांस में हर आठवीं महिला रे-प की शिकार

February 24, 2018 by No Comments

पेरिस: महिलाओं के यौ-न शोषण की बात करें तो ये किसी एक देश तक सीमित नहीं। महिलाओं का यौ-न शोषण, इस समाज में मौजूद पितृसत्तामक सोच की देन है।
बीबीसी की खबर के मुताबिक, फ्रांस इंटरनेशनल लेवल पर फैशन इंडस्ट्री के तौर पर देखा जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यहाँ पर 43 फीसदी महिलाओं को बिना उनकी मर्जी के यौ-न स्पर्श का शिकार होना पड़ा है।

ये आंकड़े सामने आये हैं पेरिस में काम करने वाले एक थिंक टैंक जीन जीरस फाउंडेशन के सर्वे में।  एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि करीब 40 लाख फ्रेंच महिलाओं को जीवन में एक बार रे-प का शिकार होना पड़ा है। गौरतलब है कि बीते साल दुनियाभर से महिलाओं ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर यौ-न शोषण के खिलाफ आवाज़ बुलंद की थी।

इस कड़ी में फ्रांस की महिलाओं ने भी यौ-न अपराधों के खिलाफ सोशल मीडिया पर हैशटैग #Balancetonporc (”rat on your pig”) चलाया। जिसमें उन्होंने अपने साथ हुए अपराधों पर अपने अनुभव शेयर किए। कई महिलाओं ने कहा कि उन्हें ऐसे अनुभव का सामना कई बार करना पड़ा।

कल फ्रेंच में प्रकाशित 2000 महिलाओं पर किए गए सर्वे की रिपोर्ट में 12 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उनका रे-प हुआ है और 43 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उनकी मर्जी के बिना उन्हें यौ-न स्पर्श का सामना करना पड़ा। सर्वे में 50 फीसदी महिलाओं को भद्दे कमेंट्स का सामना करना पड़ा। इस कड़ी में ‘rat on your pig’ मुहिम के जरिये फ्रांस में नेशनल लेवल की बहस शुरू हुई।

पिछले महीने फ्रेंच अभिनेत्री कैथरीन डेनेयूव इस मुहिम को लेकर लिखे गए एक खत पर सिग्नेचर किये हैं, जोकि यौ-न शोषण के खिलाफ चलाई गई है। वहीँ लैं-गिक समानता के लिए फ्रांस की मंत्री मार्लेन शियाप्पा ने ‘balance ton porc’ और ‘Mee Too’ जैसी हैशटैग के जरिये चलाई गई इन मुहिमों का मुखर रूप से बचाव किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *