गौरी लंकेश हत्याकांड के 5 महीने बाद SIT ने की पहली गिरफ्तारी, हिन्दू युवा सेना से जुड़े तार

March 3, 2018 by No Comments

बीते साल देश की एक बुलंद इरादों वाली निडर पत्रकार गौरी लंकेश की उनके घर पर किसी ने गोली मार कर हत्या कर दी थी।
गौरी लंकेश हत्या मामले में जांच करने के लिए एसआईटी का गठन किया गया था। गौरी लंकेश की मौत के ५ महीने बाद इस मामले में पहली गिरफ्तारी की गई है।
इस शख्स का नाम केटी नवीन है, और इस मामले में उसे 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया। एसआईटी ने बेंगलुरु की एक मजिस्ट्रेट कोर्ट को मांड्या के मद्दूर में रहने वाले केटी नवीन कुमार के खिलाफ हत्या से जुड़े साक्ष्य बरामद होने की जानकारी दी और उसे दबोच लिया। दरअसल नवीन कुमार के खिलाफ तब शक पैदा हुआ जब उसके कुछ दोस्तों ने स्वैच्छिक बयान दिये कि गौरी लंकेश की हत्या की साजिश में नवीन की भूमिका हो सकती है। कुमार से जब सख्ती से पूछताछ की गई तो स्वीकार किया और उसके बयान की कॉपी को कोर्ट में जमा करवाया गया है। केटी नवीन कुमार की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी ने पहले वॉरंट की मांग की थी। जांच में पता चला कि कुमार कट्टरपंथी हिंदुत्व संगठन हिन्दू युवा सेना से जुड़ा था। उसके संबंध सनातन संस्था संगठन और उससे संबंधित हिन्दू जनजाग्रति समिति से भी मिले।

एसआईटी ने कोर्ट को यह भी बताया कि आरोपी के खिलाफ अवैध हथियार रखने को लेकर जांच चल रही थी, जिसके लिए उसे 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। कर्नाटक पुलिस की सेंट्रल क्राइम ब्रांच की टीम ने 18 फरवरी को मैजेस्टिक बस स्टैंड से गिरफ्तार किया था। टीम का दावा है कि नवीन को तब गिरफ्तार किया गया जब वो अवैध हथियारों का सौदा करने की फिराक में पहुंचा था।

पुलिस ने नवीन कुमार की कस्टडी को जारी रखने की सिफारिश की थी। उनके मुताबिक नवीन कुमार गौरी लंकेश हत्याकांड में अहम जानकारियां दे सकता है। लिहाजा कोर्ट ने नवीन कुमार की कस्टडी को 8 दिनों के लिए बढ़ा दिया गया है।

आपको बता दें की तक़रीबन 55 साल की गौरी लंकेश की हत्या उनके बेंगलुरु में राजराजेश्वरी नगर घर पर शाम तक़रीबन 8 बजे 2 बाइक सवार नकाबपोश ने पिछले साल 5 सितंबर को गोली मार कर कर दी थी। इस मामले में तक़रीबन 100 लोगों की टीम जांच कर रही है और नवीन कुमार की गिरफ्तारी को इस मामले में एसआईटी के लिए एक बड़ी सफलता माना जा रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *