गौरी लंकेश ने भाजपा के ख़िलाफ़ लिख दिया था, उनकी जान ले ली गयी: अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश: बेंगलुरु में वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश के हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कल बीजेपी सरकार को घेरा है।
कुशीनगर में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने देश में बीजेपी के राज में हिंदूवादी ताकतों की बढ़ दखलंदाजी पर नाराजगी जताई।
अखिलेश ने कहा कि केंद्र में बैठी मोदी सरकार के राज में पत्रकार बिलकुल भी सुरक्षित नहीं हैं।
एक तरह बीजेपी डिजिटल इंडिया, न्यूज़ इंडिया जैसे कांसेप्ट की बात कर रहे हैं और दूसरी तरफ अगर कोई पत्रकार आपके खिलाफ लिख दे तो उसकी जान चली जाती है।

भारत में जो भी पत्रकार बीजेपी के खिलाफ लिखेंगे, वह असुरक्षित हैं। पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या का उदाहरण देते हुए अखिलेश यादव ने लिखा, बेंगलुरु की एक महिला पत्रकार ने भी बीजेपी के खिलाफ लिख दिया था…उनकी जान ले ली गई है।

गौरतलब है कि पत्रकार गौरी लंकेश की 5 सितंबर की रात 3 अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। गौरी लोकप्रिय कन्नड़ पत्रिका‘लंकेश पत्रिके’ की संपादक थीं। उनकी हत्या के बाद बीजेपी को विपक्ष ने आड़े हाथों लिया था।

इसके साथ उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को हराने के लिए अन्य विपक्षी पार्टियों से गठबंधन का भी संकेत दिया। अखिलेश का कहना है कि केंद्र और प्रदेश में बंदी वाली सरकारें हैं। एक ने नोटबंदी की तो दूसरे ने मेडिकल कॉलेज में समीक्षा की तो ऑक्सीजन बंद हो गया और मेट्रो को झंडी दिखाई तो ट्रेन बंद हो गई।

दोनों सरकारों के पास कोई रोडमैप नहीं है। जिस नोटबंदी और जीएसटी के नाम पर बीजेपी ने देश में बदलाव का हल्ला मचा रखा है। उस नोटबंदी और जीएसएटी से बाजार तबाह हो गया है।

फिलहाल यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं। क्योंकि गोरखपुर से सांसद और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व फूलपुर के सांसद और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुन लिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.