गिरिराज सिंह ने एक बार फिर दिया ‘विवादित बयान’, अयोध्या मुद्दे पर कोर्ट को..

November 4, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंहलगातार अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर आवाज बुलंद कर रहे हैं. गिरिराज सिंह हाल ही में राम मंदिर निर्माण को लेकर कोर्ट के फैसले में हो रही देरी को लेकर कहा था कि कई घटनाओं के लिए कोर्ट रात में भी खुली है तो मंदिर के लिए क्यों नहीं. इसके बाद काफी सियासी बवाल भी मचा था. उन्होंने कहा कि सरकार और न्यायालय को आगे आकर इस मामले को सुलझा लेना चाहिए क्योंकि मंदिर निर्माण में हो रही देरी को लेकर लोगों में आक्रोश है. गिरिराज ने कहा कि राम मंदिर को लेकर देश के लोगों का सब्र का बांध टूटता जा रहा है. उन्होंने कहा कि भाजपा के राज्यसभा में सांसद राकेश सिन्हा प्राइवेट बिल लेकर आ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि देश में कई ऐसे मुद्दे हुए जिस का निपटारा कोर्ट के द्वारा रात में निकाला गया. आप लोगों को भी मालूम है कि एक आतं-कवा-दी के लिए कोर्ट लगाया गया. जब आतं-कवादि-यों के लिए समय हो तो प्रभु राम के लिए क्यों ना हो? जिसमें सवा सौ करोड़ हिंदुओं की आस्था है. इसके लिए लोगों में काफी आक्रोश देखा जा रहा है. दुनिया की कोई ताकत नहीं जो राम मंदिर बनाने से रोक सके. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर पर सुनवाई को जनवरी तक टाल दिया है। अब जनवरी में सुुनवाई की तारीख तय की जाएगी। 

कोर्ट आज अयोध्या की राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि को तीन भागों में बांटने वाले 2010 के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा था। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल एवं न्यायमूर्ति के एम जोसफ की पीठ इस मामले में दायर अपीलों पर सुनवाई की। दरअसल अयोध्या विवाद आज का नहीं बल्कि यह करीब साढ़े चार सौ साल से भी ज्यादा पुराना मामला है। राम मंदिर और बा‍बरी मस्जिद को लेकर दो समुदायों के बीच यह विवाद 1528 से ही चला आ रहा है। यहां पर कई बार इन दोनों पक्षों के बीच व‍िवाद हुआ। इस व‍िवाद ने सबसे ज्याादा उग्र रूप तब धारण किया जब 6 दिसंबर 1992 में हजारों की संख्या में कार सेवकों ने अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद ढहा दिया था। इस घटना के बाद सांप्रदायिक दंगे हुए। मस्जिद की तोड़-फोड़ की जांच के लिए एम.एस. लिब्रहान आयोग का गठन हुआ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *