भारतीय नेवी में महिलाओं के लिए एक रास्ता और खुला

November 3, 2018 by No Comments

दुनिया भर में इस समय महिलाएं पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। हमारे देश भारत में भी महिलाएं समय तरक्की की रोशनी नई ऊंचाइयों पर अपना परचम लहरा रही हैं।हमारे देश के मार्स मिशन जैसे स्पेस प्रोग्राम में महिला वैज्ञानिकों की अहम भूमिका रही है। कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स, दोनों ही भारतीय मूल की महिलाएं हैं जो यूएस स्पेस मिशन का हिस्सा रहीं। इसी हैदराबाद शहर में साइना नेहवाल, पीवी सिंधु और सानिया मिर्जा जैसी प्रतिभाशाली खिला़डी रहती हैं। शहरी और ग्रामीण निकायों में हम एक तिहाई महिलाओं का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करा रहे हैं।

देश में जहां कुछ क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी नहीं दी जा रही थी धीरे धीरे वहां पर भी महिलाओं को पुरुषों के बराबर पुरुषों के बराबर काम करने का मौका दिया जा रहा है एक बार फिर से महिलाओं के लिए अच्छी खबर भारतीय नेवी की तरफ से इस खबर पर पुष्टि हो गई है कि अब भारतीय नेवी में महिलाएं नाविक भी बनेगी ।हालांकि भारत में वर्तमान में महिलाएं नौसेना की विभिन्न शाखाओं में तैनात हैं,लेकिन उन्हें समुद्र में नहीं भेजा जाता था।आपको बता दें कि भारतीय नेवी में महिलाएं जहाज चलाने के अलावा है बाकी सभी पोस्ट पर काम करती थी और काफी दिनों से या चर्चा में सुनाई दे रहा था कि जल्दी महिलाओं को जहाज चलाने का भी मौका मिलेगा।

वही भारतीय नौसेना के शीर्ष कमांडरों ने शुक्रवार को सम्पन्न हुए तीन दिवसीय सम्मेलन के दौरान महिलाओं को नाविक पद पर भर्ती करने को लेकर विचार-विमर्श किया।आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि नौसेना ‘सी गोइंग कैडर’ में आने वाले दिनों में महिलाओं को भर्ती करने पर भी विचार कर रही है। दिलचस्प बात यह है कि ,खुद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण महिलाओं की को यह अधिकार दिलाने में काफी दिन से भारतीय नौसेना के कमांडर से चर्चा कर रही थी।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रक्षा मंत्री रक्षा मंत्री ने अनुरोध किया कि नौसेना महिलाओं को भर्ती करने पर बढ़ावा दे । इस पर नौसेना प्रमुख सुनील लांबा ने पुष्टि की कि नाविक पद पर महिलाओं की भर्ती सम्मेलन के एजेंडों में शामिल था। आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि भारत में महिलाएं आर्मी और एयरफोर्स के मुकाबले नेवी में महिला अफसरों की संख्या बढ़ी है।

आर्मी में 2015 में 72 महिला अफसरों को शामिल किया गया, जबकि 2016 में 69 को। एयर फोर्स में 2015 में 223 को शामिल किया गया था, जबकि 2016 में 108 को ही लिया गया। नेवी में 2015 में 35 महिलाओं को शामिल किया गया था, जबकि 2016 में 43 को शामिल किया गया।और तो और नौसेना के आईएल-38 और पी-8आई टोही विमान के निगरानीकर्ता के तौर पर कार्य करती हैं।नौसेना में 639 महिला कर्मी हैं जिनमें 148 चिकित्सा अधिकारी और दो दंत चिकित्सा अधिकारी हैं।जानकारी के लिए आपको याद दिला दे कि,नौसेना प्रमुख सुनील लांबा ने पुष्टि की कि नाविक पद पर महिलाओं की भर्ती सम्मेलन के एजेंडों में शामिल था, ‘सी गोइंग काडर’ में भी आने वाले समय में महिलाओं की भर्ती पर विचार किया जा रहा है’।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *