गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 24 घंटे में 10 और बच्चों की मौत

उत्तर प्रदेश: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल में पिछले बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अस्पताल में 24 घंटो के अंदर 10 और बच्चों की मौत की खबर सामने आ रही है।मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. पी के सिंह ने इस मामले में बातचीत करते हुए ये जानकारी दी है कि अस्पताल में पीडियाट्रिक वार्ड के एनआईसीयू में 17 बच्चे और पीआईसीयू यानी कि जनरल पीडिया वार्ड में 32 बच्चे भर्ती किये गये थे।

इस दौरान एनआईसीयू में कुल 118 और पीआईसीयू में 214 बच्चे भर्ती हुए हैं। जिनमें से 10 बच्चों की मौत हो गई है।
मौत का शिकार हुए बच्चों में से एक बच्चा इंसेफ्लाइटिस से पीड़ित था, जबकि दूसरे बच्चे अन्य बीमारियों से ग्रस्त थे।
अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक बीआरडी मेडिकल अस्पताल में इस साल मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 1351 हो गई है। सिंह ने बताया कि जनवरी में 152 बच्चों की मौत हुई। फरवरी में 122, मार्च में 159, अप्रैल में 123, मई में 139, जून में 137, जुलाई में 128 और अगस्त में 351 बच्चों की मौत हुई है। बच्चों की मौत का ये सिलसिला अब तक जारी है।डॉ. पी के सिंह ने बताया कि बीआरडी मेडिकल कालेज में सुविधाओं को सुधारने के लिए कई तरह की कोशिशें की जा रही है। सरकार ने 24 नये ”वार्मर” मुहैया कराये हैं जो नवजात शिशुओं के लिए इस्तेमाल में आते हैं। ये नये वार्मर वार्डों में लगा दिये गये हैं। इसके अलावा अस्पताल में बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने के मकसद से मेडिकल कालेज में नये डॉक्टर भी आए हैं। उन्होंने बताया कि इनमें दस जूनियर रेजीडेंट, सात मेडिकल अफसर और एक प्रोफेसर शामिल हैं।

गौरतलब है कि बीते अगस्त महीने में बीआरडी मेडिकल कॉलेज-अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से एक दिन में 60 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई थी। जिसके चलते पूरे उत्तर प्रदेश में राजनीति गरमा गई थी और योगी सरकार की काफी आलोचना की गई थी।
हालांकि सरकार का तो ये कहना था कि अस्पताल में बच्चों की मौत ऑक्सीजन सप्लाई रुकने की वजह से नहीं हुई थी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.