बिहार में बन गया महागठबंधन,राजद के साथ आई ये पार्टी

November 28, 2018 by No Comments

लोकसभा चुनाव को लेकर सभी दलों ने अपने समीकरण फिट करने शुरू कर दिए है.बिहार में विपक्ष और सत्ता पक्ष दोनों अपने गठबंधन में शामिल सभी दलों में सीट बटवारे का मामला तूल पकड रहा है.इस बीच एनडीए में भाजपा,जनता दल यूनाइटेड और पासवान की पार्टी के बीच सीटो का बटवारा तय होता दिख रहा है वही उपेन्द्र कुशवाह की पार्टी को एनडीए में नजर अंदाज़ किया जा रहा है.जानकारों की माने तो उपेन्द्र कुशवाह महागठबंधन में शामिल हो सकते है.

इस बीच राजद,कांग्रेस और मांझी के हम के महागठबंधन को एक खुश खबरी मिलती दिख रही है बिहार के वाम दल महागठबंधन से अलायन्स बनाने जा रहे है.इस बावत एक एलान सीपीएम की राज्य इकाई ने कर दिया है.बता दे कि सीपीएम एवं अन्य वामपंथी दलों का लोकसभा की कई सीटो पर आधार है.सीपीएम के राज्य सचिव राज्य सचिव अवधेश कुमार ने मीडिया वार्ता में कहा कि अयोध्या में साधु संतों के जमावड़े के पीछे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को पराकष्ठा पर पहुंचाना है.सीपीएम एवं अन्य वाम दल भाजपा को हराने के लिए महागठबंधन में शामिल होने को तैयार है.

उपेन्द्र कुशवाह पर एनडीए में बवाल-एक अन्य घटनाक्रम में भाजपा और जनता दल यूनाइटेड पर निशाना साधते हुए केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाह ने कहाकि उनकी मंशा एनडीए में रहने की है लेकिन उन्होंने एनडीए से निकालने और साइडलाइन किया जा रहा है.उन्होंने कहाकि अभी एनडीए में वो है लेकिन तीस नवम्बर के बाद क्या होगा ये उन्हें नही पता?,एक अन्य घटनाक्रम में उपेन्द्र कुशवाह की पार्टी रालोसपा के दो विधायक भाजपा के विधायक दल की मीटिंग में नजर आये.इस नए घटनाक्रम को उपेन्द्र कुशवाह के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

जानकारों की माने भाजपा और जनता दल यूनाइटेड की कोशिश है कि उपेन्द्र कुशवाह को कोरी समाज का एक छत्र नेता बनने के दावे को झुटलाया जाए और ये साबित किया जाए रालोसपा में से सिर्फ उपेन्द्र कुशवाह साथ नही है.पटना में रहने वाले पत्रकारों के सूत्रों की माने तो उपेन्द्र कुशवाह का भाजपा से अलग होना तय है लेकिन उपेन्द्र कुशवाह चाहते वो एनडीए ना छोड़े बल्कि उन्हें ही बर्खास्त किया जाए ताकि जनता में उनके प्रति सहानुभूति हो.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *