“गुजरात राज्य है, अमित शाह की जागीर नहीं है”

November 3, 2017 by No Comments

गांधीनगर: गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस ने भाजपा पर अपने हमले तेज़ कर दिए हैं. भाजपा अपने को बैकफ़ुट पर महसूस कर रही है तो कांग्रेस पूरी तेज़ी से चुनाव प्रचार में लगी है. भाजपा के वरिष्ट नेता वैसे दौरे तो लगातार गुजरात के भी कर रहे हैं लेकिन हिमाचल प्रदेश में भी भाजपा पूरा ज़ोर लगा रही है. कांग्रेस की बात करें तो हिमाचल प्रदेश में पार्टी के केन्द्रीय नेता प्रचार नहीं के बराबर ही कर रहे हैं और अकेले मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ही प्रचार की कमान संभाले हैं.

जीतू पटवारी ने भाजपा पर बोला हमला

जीतू पटवारी ने ट्विटर के ज़रिये भाजपा पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि भाजपा चुनाव जीतने के लिए हिन्दुओं को डराने की कोशिश कर सकती है. उन्होंने कहा कि गुजरात की जनता को इन हथकंडों से सावधान रहना होगा. इसके अतिरक्त उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा और कहा कि मोदी अब कितने भी आंसू बहा लें अब गुजरात में कांग्रेस ही आ रही है. उन्होंने कहा कि वो चाहे कितनी धमकियां दे दें और अभिनय कर लें लेकिन अब ज़ुलमेबाज़ी नहीं चलेगी.उन्होंने दावा किया कि इस बार चुनाव कांग्रेस जीतेगी और ये जीत जनता की होगी.

पटवारी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात में 5 साल में 3 मुख्यमंत्री देने वाली भाजपा 150 सीट की बात कर रही है..? गुजरात राज्य है, अमित शाह की जागीर नहीं..।

उन्होंने भाजपा सरकारों के पिछले 22 सालों के शासन को दमन का शासन बताया. उन्होंने कहा कि अब खुशहाली की बयार बहेगी.उन्होंने भाजपा के केन्द्रीय नेताओं के नोटबंदी और GST को जश्न बताये जाने पर कटाक्ष किया कि अगर नोटबंदी और GST इतनी ही अच्छी हैं तो उन्हीं के नाम पर वोट मांगें. उन्होंने कहा,”भाजपा अब बेपर्दा है, पूरे देश में हा-हाकार मचा है और जेटली 8 नवंबर को जश्न मनाने की बात कर रहे हैं..? बर्बादी का जश्न..?” पटवारी ने कहा कि मोदी व्यापारियों के दम पर ही प्रधानमंत्री बने हैं और उन्हीं व्यापारियों पर ख़ंजर चला रहे हैं.

कांग्रेस उत्साहित
इसमें कोई दो राय नहीं है कि पिछले कई चुनावों की तुलना में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह है. राहुल गाँधी की रैलियों में आने वाली भीड़ को देख कर पार्टी में उत्साह और बढ़ रहा है. वैसे इस उत्साह का कारण पार्टी को तीन युवा नेताओं का समर्थन भी माना जा रहा है जिसमें हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकुर शामिल हैं. हालाँकि जिग्नेश और हार्दिक ने कांग्रेस में जाने से अभी इनकार किया है लेकिन ये माना जा रहा है कि उनका भाजपा विरोध कांग्रेस को मज़बूत कर रहा है. दूसरी ओर अल्पेश ने कांग्रेस में जाकर ओबीसी वोट कांग्रेस के पक्ष में करने की कोशिश की है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *