हज-2018 रहा पूरी तरह सफ़ल, शुरू हुईं हज-2019 की तैयारियाँ

October 4, 2018 by No Comments

नई दिल्ली । इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक पिछला महीना हज का था।इस महीने में दुनिया भर के मुसलमान हज करने के लिए सऊदी अरब जाते हैं और इस्लाम के एक अहम फ़र्ज़ को पूरा करते हैं। भारत की बात करें तो यहाँ से हर साल एक लाख से ज़्यादा मुसलमान हज के लिए जाते हैं। हज 2018 पूरी तरह सफल रहा और इस सफलता के बाद यहाँ हज 2019 की तैयारियां शुरू हो गई हैं। सूत्रों के अनुसार अगले साल होने वाले हज का ऐलान भी जल्द ही कर दिया जाएगा।

आज यहाँ हज 2018 की सफ़लता का जायज़ा लेने और 2019 की तैयारियों पर चर्चा के लिए एक उच्च स्तरीय मीटिंग बुलाई गई। इस मीटिंग की अध्यक्षता , अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने की।इस मीटिंग में अल्पसंख्यक मंत्रालय के अलावा विदेश मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंतू,स्वास्थ्य मंत्रालय और हज कमेटी के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। इस मीटिंग में सऊदी अरब मे भारतीय दूतावास के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा हज सबसिडी ख़त्म करने के बाद यह पहला ही हज था। मीटिंग में हज सबसिडी ख़त्म होने के असर का आकलन भी किया गया और यह पाया गया कि हज सबसिडी ख़त्म करना हाजियों के हक़ में बहतर साबित हुआ। मीटिंग मे यह भी पाया गया कि बिचौलियों पर कार्यवाही करने और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने से हज सबसिडी के बिना भी हज को महंगा होने से बचाया जा सका ।

मुख़्तार अब्बास नकवी ने हज 2018 की कामयाबी के लिए भारत सरकार,सऊदी अरब तथा सभी संबंधित एजेंसियों को बधाई दी। उनका कहना था कि बरसों बाद ऐसा संभव हुआ है कि हवाई जहाज़ के किराए में रिकॉर्ड स्तर की गिरावट देखी गयी है। उन्होंने बताया कि 2017 में एक लाख चोबीस हज़ार हाजियों के लिए 1030 करोड़ रू किराए पर ख़र्च हुए थे ,जबकि हज 2018 मे एक लाख अठ्ठाइस हज़ार हाजियों के लिए हज कमेटी ने 973 करोड़ रु ख़रु किये जो पिछले साल की तुलना मे 57 करोड़ रु कम है।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *