भाजपा नेता अपने बेरोज़गार बेटे के लिए पकौड़े का ठेला क्यूँ नहीं लगवाते: हार्दिक पटेल

February 6, 2018 by No Comments

एक प्राइवेट चैनल को दिए इंटरव्यू में जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पकौड़ा बेचने को रोज़गार का हिस्सा कहा है तब से ही देश भर में ये बहस तेज़ हो गयी है कि मोदी अपनी नाकामियाँ छुपाने के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं. विपक्ष के नेता इस पर सवाल कर रहे हैं कि पीएचडी करके अगर कोई पकौड़े बेच रहा है तो उसे रोज़गार नहीं समझा जाना चाहिए बल्कि वो मजबूरी में ये काम कर रहा है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कल राज्यसभा में कहा कि पकौड़े बेचना भीक मांगने से बेहतर है. शाह और भाजपा के दूसरे नेता कुछ भी कहें लेकिन सच्चाई यही है कि सरकार रोज़गार दे पाने में बुरी तरह नाकाम है. इस मुद्दे पर अलग-अलग जगह पकौड़ा प्रोटेस्ट भी किये जा रहे हैं. उत्तर प्रदेश में कई बार शासन में रह चुकी समाजवादी पार्टी ने भी इसको लेकर रामपुर में एक पकौड़ा प्रोटेस्ट किया.

कर्नाटक और देश के दूसरे हिस्सों में भी लोग पकौड़े बेचकर बेरोज़गारी दर्शा रहे हैं. पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी इस बारे में अपना पक्ष रखा है. हार्दिक ने कहा कि है कि अगर पकौड़े बेचना वाक़ई रोज़गार है तो भाजपा के नेताओं को अपने बेटों के लिए यही करवाना चाहिए और पकौड़े का ठेला लगवाना चाहिए. उन्होंने कहा,”अगर पकौड़े बेचना रोज़गार है तो फिर भाजपा नेता अपने बेरोज़गार बेटे के लिए पकौड़े का ठेला क्यूँ नहीं लगवाते!”

गौरतलब है कि 2014 लोकसभा चुनाव के समय भाजपा ने कहा था कि वो हर साल दो करोड़ लोगों को रोज़गार देगी लेकिन भाजपा अपने इस वादे में बुरी तरह फ़ेल रही है और बेरोज़गारी पहले की तुलना में बढ़ी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *