गुजरात चुनाव: ‘एक ज़माना था भाजपा सभा करती थी….अब प्रेस पर आ गई है”

गांधीनगर: गुजरात विधानसभा चुनाव में तीन युवाओं हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर की तिकड़ी राजनीति में एक अहम किरदार किरदार निभा सकती है। ये तीनों युवा नेता लगातार बीजेपी पर हमलावर हो रहे हैं। राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी को मात देने के लिए हार्दिक कांग्रेस के साथ हाथ मिला सकते हैं। उन्होंने इसके लिए कांग्रेस के सामने 5 शर्ते रखीं हैं। जिनमें से पार्टी ने 4 को मान लिया है। पाटीदार आरक्षण के मुद्दे पर हार्दिक ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी कल आखिरी फैसला लेंगी। जिसके बाद पता चलेगा कि क्या हार्दिक खुले तौर पर कांग्रेस का समर्थन करेंगे या नहीं। हार्दिक ने कहा कि हम लोग कांग्रेस ज्वाइन नहीं करेंगे, अगर कांग्रेस आरक्षण के मुद्दे पर अपना फैसला साफ करती है तो फायदा पाटीदारों को होगा। हार्दिक पटेल कांग्रेस का समर्थन करेंगे या नहीं। इसके बारे फ़िलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है। लेकिन वह राज्य में बीजेपी का विरोध जमकर कर रहे हैं। इस मामले में वह किसी भी तरह से कमी नहीं छोड़ रहे हैं। दरअसल गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ हार्दिक पटेल मैदान में पूरी तरह उतर आए हैं।
हार्दिक ने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा है कि एक ज़माना था भाजपा सभा करती थी और कोंग्रेस प्रेस करती थी,जनता की ताक़त देखो अब कोंग्रेस सभा करती है और भाजपा प्रेस पर आ गई हैं।
हमने राजनीतिक स्वंतत्रता प्राप्त कर ली है, आर्थिक स्वतंत्रता का प्रावधान संविधान में किया है,लेकिन देश में समता लानी है तो समानता रखनी होगी।  इससे पहले हार्दिक पटेल ने ट्वीट किया था की, यह लोग मेरे साथ नहीं,मुद्दों की लड़ाई के साथ हैं।में सोच रहा हु की आधार कार्ड स्विस बैंक के खातों से कब जोड़ा जाएगा !!
आपको बता दें की आज ही ‘पैराडाइज पेपर्स’ (1.34 करोड़ दस्तावेज) में टैक्सचोरी कर विदेश में कालाधन छुपाने के मामलों से जुड़ी फाइलें सामने आई हैं।

जिसमें मोदी सरकार के मंत्री जयंत सिन्हा, बिहार से बीजेपी के राज्यसभा सांसद रवींद्र किशोर सिन्हा समेत फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन सहित 714 भारतीयों के नाम शामिल हैं। यह खुलासा जर्मनी के जीटॉयचे साइटुंग नामक उसी अखबार ने किया है जिसने 18 महीने पहले पनामा पेपर्स का खुलासा किया था।  इस खुलासे के जरिये उन फर्मों और फर्जी कंपनियों के बारे में बताया गया है जो दुनिया भर में अमीर और ताकतवर लोगों का पैसा विदेशों में भेजने में उनकी मदद करते हैं। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.