तीन लोगो को भूल कर भी न बताये अपना राज़, हज़रत अली ने फरमाया-अपने राज़ को…

January 8, 2019 by No Comments

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज हम आपको बताएंगे कि कभी भी अपनी राज तीन लोगों को मत बताएं तीन लोग कौन हैं आइए जानते हैं एक बार हजरत अली की खिदमत में एक शख्स बहुत परेशानी में हाजिर हुआ।उसने हजरत अली से कहा कि हुजूर मेरी कहीं भी इज्जत नहीं होती है मैं हर जगह रुसवा होता हूं बेइज्जत होता हूं और हर कोई मेरा मजाक उड़ाता है.
मैं बहुत परेशान हो चुका हूं मेरी मदद कीजिए तब हजरत अली ने फरमाया की ए शख़्स अगर तुम चाहते हो कि तुम कहीं भी रुसवा और बेइज्जत ना हो लोग तुम्हारा मजाक ना उड़ाय तो तुम अपने राज को सबसे छुपाए और बचाए रखा करो। जब तक तुम लोगों से अपने रात को छुपाए रखोगे तब तक वह तुम्हारे गुलाम रहेंगे.

google


लेकिन जैसे ही उनको तुम्हारे राज़ के बारे में पता चलेगा तुम उनके गुलाम बन जाओगे तब उस आदमी ने हजरत अली से पूछा कि हुजूर ऐसे कौन लोग हैं जिनके सामने मुझे अपने राज नहीं बताने चाहिए या जिनके सामनेें अपने राज बताने से मैं रुसवा हो जाऊंगा सब हजरत अली ने फरमाया कि कभी भी अपना राज किसी औरत के सामने मत खोलो याद रखो औरत के दिल और जुबान का फासला बहुत कम होता है और वह कहीं भी कुछ भी बोल देती है दूसरा कभी भी अपने राज को अपने बेवकूफ दोस्त के सामने मत बताओ क्योंकि बेवकूफ दोस्त को यह नहीं पता होता है कि कौन सी बात कब और कहां बोलनी है और वह तुम्हारा भला तो चाहता है.
लेकिन बेवकूफी में वह तुम्हारा नुकसान कर बैठता है और तीसरा कभी भी अपना राज उस इंसान के सामने मत रखो जो झूठ बोलता हो या ग़ीबत करता हो क्योंकि उसकी यह बुराई तुम्हारी रुसवाई का सबसे बड़ा सबब बन सकती है वह इंसान बुराई करने से बाज नहीं आएगा और किसी और के सामने तुम्हारे रात को खोल कर रख देगा.

यह वही लोग है जिनके सामने कभी भी इंसान को अपने राज नहीं बताने चाहिए ऐसा करने पर सामने वाला रुतबा और बेइज्जत हो जाता है और लोग उसका मजाक उड़ाने लगते हैं राज अब तक राज होता है जब तक वह हमारे दिल में होता है और जुबान तक नहीं आता है जैसे ही हम अपना राज किसी के सामने रखते हैं तो वह राज़ खत्म हो जाता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *