हज़रत पीर ज़ुल्फ़िकार अहमद का बयान-‘इन दो चीज़ों की आदत से ख़ुद को बचाइये, मिलेगी लम्बी ज़िन्दगी’

अस्सलाम ओ अलैकुम दोस्तों, हम हर रोज़ आपसे दीन के बारे में बात करते हैं. हम सभी को ये कोशिश करनी चाहिए कि नेक रास्ते पर चलें. सभी ये चाहते हैं कि उनकी ज़िन्दगी पुर-सुकून हो और लम्बी हो.हम आज इसी बारे में आपसे बात करेंगे. आज हम आपके लिए एक ऐसा नुस्खा लेकर आये हैं जिससे आप अपनी ज़िन्दगी को बेहतर कर सकेंगे. अगर आपको अपनी जिंदगी बढ़ाना है तो आप ही काम करना होगा दोस्तों मौलाना पीर जुल्फिकार अहमद साहब कहते हैं कि अगर आप अपनी जिंदगी को लंबा करना चाहते हैं तो अपने खाने को कम कर लीजिए.

वो कहते हैं कि आज का भूके रह जाना बेहतर कल को दवा खाने से. वो बताते हैं कि रोज़ा रखना बहुत ज़रूरी है क्यूंकि इससे जिस्म साफ़ होता है. बॉडी के अन्दर मौजूद चीज़ों की एक तरह से सफाई हो जाती है. हमारा लीवर किडनी और सारी चीजें प्यूरिफाई हो जाती है. वो कहते हैं कि हम जो नमक खाते हैं वो भी नुकसान पहुँचाने वाली चीज़ है. उन्होंने कहा कि जो जन्म होता है वो इंसान के जिस्म में डाइजेस्ट नहीं होता बल्कि उसी तरह बाहर निकल जाता है हम बस इसी टेस्ट के लिए लेते हैं लेकिन जब वह सिस्टम में होता है तो इंसान के ब्लड प्रेशर को पढ़ा देता है नमक जब जिस्म जाता है.

ये बॉडी के अन्दर मौजूद कैल्शियम का इस्तेमाल करने लगता है, इसका अर्थ है कि अगर बॉडी में कैल्शियम नहीं होगा तो हड्डियां कमज़ोर हो जायेंगे. इसका अर्थ है कि जो बच्चे पोटैटो चिप्स खाते हैं वो उनकी हड्डियों को कमज़ोर कर देता है. जिस तरह से अधिक नमक हो जाना सेहत के लिए ठीक नहीं है उसी तरह अधिक शक्कर हो जाना भी शरीर को नुकसान पहुंचता है. इसलिए संतुलित मात्रा में ही नमक और शक्कर का सेवन करें. शक्कर और नमक से बने खाने की लत न लगाएं. कोशिश करें कि इनको संतुलित मात्रा में ही खाएं. रमजान के महीने में रोज़े रक्खे, ये आपकी सेहत के लिए अच्छा नतीजा लाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.