हज़रत उमर की खिलाफ़त का वो वाकिया जिसे हर मुस्लिम को पढ़ना चाहिए

November 26, 2018 by No Comments

हज़रत उमर फारुक रजियल्लाहु अन्हु के ज़माने में इस्लामी हुदूद 23 लाख मुरब्बा मिल तक फैल गइ.हज़रत उमर जो तख्त ए हुकुमत पे बैठ ते थे उनका तख़्त कोइ सोने चाँदी का नही था बल्के मस्जिद ए नबवी की चटाई थी और वही बैठ कर लोगों की बाते सुनते उनकी परेशानी सुनते.जब रात होती तो भेस बदलकर मदीने की गलीयों मे गश्त करते थे.

रात जब हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु अपने गुलाम अस्लम के साथ हर्रा वाकिम की तरफ निकले और जब वो “सिरार” पहूँचे तो एक जगह आग जलती हूइ देखी जब नजदीक पहँचे तो देखा की एक औरत आग पर हंडी चढाये हुए थी और उसके बच्चे रो रहे थे.हज़रत उमर ने सलाम किया और पूछा ये हंडी क्यु चढा रखी है और बच्चे क्यु रो रहै है?इन्हें खाना क्यु नहीं देती?औरत बाेली ये बच्चे भुख़ से रो रहे है 3 दिन से हमारे यहा खाने को कुछ नही है.रोज़ाना बच्चे रोते है और मैं हंडीया के अंदर पत्थर डाल के नीचे से आग दे देती हूं फिर बच्चे इंतजार कर कर के साे जाएगे.कबख़्त साँ भी नही रहे और वो पत्थर पकेगे भी क्या….”और मैं उमर की जान को रो रही हूं,अल्लाह हमारे और उमर के बीच फैसला करे”!

Photo Source-AppAdvice

ये बात सुनकर हज़रत उमर का कलेजा दहलने लगा और फरमाया अल्लाह रहम करे.उमर को आप के बारे मे कैसे पता होगा?औरत बोली क्यु नही होगा?वो हमारा हुक्मरान है.वो हमसे गाफिल और बेख़बर कैसे है?ये सुनकर हज़रत उमर और अस्लम फौरन पलटे.बैतुल माल (अनाज का गौदाम) मैं आये.आटे की एक बोरी ली,घी,खजूर,दिरहाम और कपडे रखे.यहा तक की बोरी पूरी तरह से भर गयी और अपने गुलाम अस्लम से फरमाया ” ये बोरी मेरी पीठ़ पर लाद दो” अस्लम बोले ये काम तो मेरा है.मेरे आका लोओ ये बोरी मैं ऊठाउगा.हज़रत उमर की आँखों में आंसू है और फरमाया-“अस्लम !कयामत के दिन मेरा बोझ उठा लोगे”?ये उमर का बोझ है उमर को ही उठा ने दो.ये सुनकर अस्लम ने बाेरी उनके पीठ़ पर डाल दी और वो औरत के घर जाते है और दस्तक देते है.वो जब देखती है तो उसकी जान में जान आ जाती है.और कहा जल्दी जल्दी आटा बुंदो और हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु सब्जी काटने लग जाते है.और चूल्हे पे सब्जी पकाने रख दी जाती है.

Photo Source-google plus

और जब जब आग बुझने लगती है हज़रत उमर झुक झुके चूल्हे के अंदर फूके मारते है और जब खाना तैयार हो जाता है और सब खा लेते है तो हज़रत उमर रजियल्लाहु अन्हु बच्चो को खुश करने के लिए उनके साथ खेलते है और बच्चों को हंसाते है जब बच्चे मुस्कराने लगे तो औरत बोली अल्लाह तआला आप को जजा ए खैर दे खिलाफत के हकदार आप हो उमर नही, हज़रत उमर ने कहा “आप उमर को माफ कर दे” उसने कहा तु इतनी हमदर्दी क्यु करता है?कहा मेरी बहन उमर को माफ कर दे!औरत बोली ना ना! उमर की मेरे सामने बात ना कर!!“कयामत का दिन होगा उमर का गिरेबान होगा और मेरा हाथ होगा”

ये सुनकर हजरत उमर बिलक बिलकर रोने लगे और कहा वो बदनसीब उमर तेरे सामने है!आज ही कहले जो कहना है.कयामत के दिन मुझे माफ रखना,हजरत उमर रजियल्लाहु कहते है अगर दजला के किनारे अगर एक बकरी का बच्चा भी प्सासा मर गया तो उसका हिसाब भी उमर से लिया जायेगा,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *