वो कौन से नबी है मछली निगल गयी ?,पूरा वाकिया यहाँ पढ़े

दुनिया में अल्लाह ने सवा लाख नबी भेजे है जिसमे से कुछ का ही कुरान मजीद में ज़िक्र है.आप को बता दे एक नबी ऐसे रहे है जिनको मछली ने निगल लिया लेकिन इसके बाद भी वो जिंदा रहे.ये कोई और नही बल्कि हज़रत युनुस अ.व. है उनको मछली ने निगल लिया लेकिन वो जिंदा रहे क्युकि अल्लाह की रहमत उन पर आई.

आज हम हज़रत युनुस का वाकिया आप को बताने जा रहे है.हज़रत युनुस एक कश्ती में सफर कर रहे थे इस कश्ती में कई लोग सवार थे.अचानक कश्ती इस्धर से उधर डोलने लगी.कसती में बैठे लोगो ने कहाकि यहाँ कोई आदमी बैठा है जो अपने मालिक से भाग के आया है.

इस वज़ह से नाव इधर से उधर डिसबैलेंस हो रही है.लोगो ने छानबीन की लेकिन कोई नही मिला/इसके बाद हज़रत युनस ने फरमाया,‘वह भागा हुआ बंदा मैं हूं.मुझे दरिया में डाल दो.तब तुम्हारी कश्ती पार होगी .

लोगों ने कहा, यह कैसे हो सकता है आप जो बरकत वाले हैं. आप की बरकत से तो कश्तियां तूफान से निजात पाती हैं. हजरत यूनुस ने फरमाया, ‘चिट्ठी डालो जिस के नाम चिट्ठी निकले उसको दरिया में डाल दो .

जब चिट्ठी डाली तो चिट्ठी हजरत यूनुस के नाम निकली.लोगों ने चिट्ठी का ऐतबार न किया और कहा कि हम आपको दरिया में हरगिज नहीं डालेंगे चिट्ठी तीन बार डाली गई और हर बार हजरत यूनुस के नाम निकली मजबूर होकर उन्हें दरिया में फेंक दिया गया और एक बड़ी मछली ने आप को निगल लिया.

इस तरह हजरत यूनुस मछली के पेट में कैद हो गए .फिर हजरत यूनुस कई दिन तक मछली के पेट में रहे और अपने रब को पुकारा.ला इलाहा इल्ला अंत सुब्हान क इन्नी कुन्तु मिनज्ज़ालिमीन.फिर मछली ने अल्लाह की मेहरबानी से एक कुशादा मैदान के किनारे आपको उगल दिया .

खुदा ने वहां एक बेलदार दरख्त उगाया जहां उन्हें आराम मिला जब बदन में कुछ ताकत आई और आप तंदुरुस्त हुए तब खुदा के हुक्म से कौन की तरफ रवाना हुए कौम की तायदाद एक लाख से ज्यादा थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.