इंटरनेशनल स्‍कीइंग में भारत को पहला मेडल दिलाने वाली हिमाचल प्रदेश की आंचल ठाकुर

January 11, 2018 by No Comments

इस्तांबुल: हिमाचल प्रदेश की आँचल ठाकुर ने आज दुनियाभर में अपने नाम के साथ देश का नाम भी रोशन किया है। 21 साल की आंचल इंटरनेशनल स्कीइंग महासंघ द्वारा तुर्की में आयोजित अल्पाइन एडेर 3200 कप में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। इंटरनैशनल स्कीइंग कॉम्पिटिशन में पदक जीतने वाली आंचल भारत की पहली खिलाड़ी हैं।

आंचल की यह जीत इसलिए भी खास है क्योंकि भारत में स्कीइंग का खेल ज्यादा प्रचलित नहीं है और न ही ऐसे खेल के लिए बहुत अधिक संसाधन मौजूद है। ऐसे में भारत की तरफ से स्कीइंग को इंटरनेशनल लेवल पर लेकर जाना आँचल के लिए आसान सफर नहीं था। आंचल ने बताया कि मैं सातवीं कक्षा से ही यूरोप में स्कीइंग कर रही हूं। पापा हमेशा चाहते थे कि मैं स्कीइंग करूं और वे इसके लिये अपनी जेब से खर्च कर रहे थे। बिना किसी सरकारी सहायता के उन्होंने मुझ पर और मेरे भाई पर काफी खर्चा किया है।”

इसके आगे आंचल ने कहा “भारत में स्कीइंग करना हमारे लिये सबसे चुनौतीपूर्ण था क्योंकि यहां अधिकांश समय बर्फ नहीं गिरती है, लिहाजा हमें बाहर जाकर अभ्यास करना पड़ता था। इसके चलते आंचल के पिता ने ट्रेनिंग के लिए उन्हें सातवीं क्लास से ही वो यूरोप, अमरीका, न्यूज़ीलैंड, कोरिया में भेजना शुरू कर दिया था। जिसका सारा खर्च आंचल के परिवार ने ही उठाया। स्कीइंग करते समय सुरक्षा के लिए पहने जाने वाले गियर की कीमत भी काफी ज्यादा होती है। स्कीइंग के पेयर और गियर समेत पूरा सामान सात से आठ लाख तक का आता है।
इस सफर में परिवार का साथ मिलने पर आँचल आज अपना और अपने पिता का सपना पूरा करने में कामयाब हो पाई हैं। आँचल का कहना है कि भारत में इस खेल के प्रति लोगों में बिलकुल जागरूकता नहीं है। यहां लोगों को स्कीइंग भी कहना नहीं आता। लोग मुझसे कहते हैं कि तुम स्काइ करती हो? मुझे पहले दो मिनट तो सही नाम बताने में ही लग जाते हैं।

अपनी इस जीत से उत्साहित आंचल ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर खुशी जाहिर करते हुए ट्वीट किया कि आखिरकार कुछ ऐसा हो गया है, जिसकी उम्मीद नहीं थी। मेरा पहला इंटरनेशलन मेडल। हाल ही में तुर्की में खत्म हुए फेडरेशन इंटरनेशनल स्की रेस में मैंने शानदार परफॉर्म किया।

[get_Network_Id]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *