जब गैरमुस्लिम परिवार ने अपनी बेटी का निकाह मुस्लिम लड़के से करवाया,बोले-मर्जी है मुसलमानों बन जाओ क्युकि..

दोस्तों ऐसा बहुत कम होता है जब माँ बाप अगर मुस्लिम ना हो तो भी मुस्लिम लड़के को अपना दामाद बनाये लेकिन आज हम ऐसा ही मामला आपको बताने रहे है जो आपको चौका देगा.ये मामला दुबई में रहने वाले भारतीय मूल के इसाई जोसेफ  का है.केरल के मूल निवासी जोसेफ दुबई में अपने परिवार सहित रहते है वो बीस साल से दुबई में रह रहे है उनकी फ्रीज़ और ऐसी रिपेयरिंग की दूकान है.जोसेफ की दुबई में अपने पडोसी पाकिस्तानी मुस्लिम परिवार से अच्छी बनती है.

जोसेफ जब दुबई गए तो उनके पड़ोस के मुस्लिम परिवार ने उनकी बहुत मदद की जिसके बाद दोनों परिवारों में अख्लाकी रापता मजबूत हो गये.

लेकिन सालो बाद ऐसा हुआ कि जोसेफ  ने अपनी बेटी का निकाह पडोसी पाकिस्तानी परिवार से करवा दिया.

बच्चो के बीच इश्क

जोसेफ की बेटी सनाया और पडोसी पाकिस्तानी परिवार के बेटे के बीच इश्क बाज़ी शुरू हो जाती है जिसके बाद पाकिस्तान परिवार अपने बेटे पर सख्ती कर देता है.

मुस्लिम परिवार को डर था कि कहीं दोनों के प्यार के वज़ह से रिश्तो में तल्खी ना आये.

रामलाल खुद पहुच गये रिश्ता लेकर

Muslim boy praying in Sujud posture

 

जोसेफ को जब इस मामले की जानकरी हुई तो उसने बेटी से पूछा,वो क्या शादी करेगी ? लड़की ने कहां वो वो शादी करेगी.

ये सुनने के बाद जोसेफ अपने परिवार के साथ रिश्ता मांगने चले गये.मुस्लिम परिवार ने शादी से मना किया तो जोसेफ  ने कहां,वो चाहते है उनकी बेटी का रिश्ता इसी घर में.

अख़लाक़ के वज़ह से किया

जोसेफ  ने कहाकि उनके पडोसी ने उनकी कई बार मदद कि वो कभी उसका बदला नही चुका पाए,

अगर मैं अपनी बेटी का रिश्ता वहां नही करता फिर अपने दिल को माफ़ नही कर पाता,इसलिए मुझे सही लगा.

जोसेफ  का कहना है जब लड़का और लड़की राज़ी है तो हम भला इसे रोने वाले कौन होते है.

लड़की के मुस्लमान बनने पे उन्होंने कहाकि उनकी लड़की बालीग है और बचपन से उसकी इस्लाम में रूचि थी.

जोसेफ  लाल का कहना है इस्लाम को पसंद करने की वजह से उनकी बच्ची सिर्फ मुस्लिम लड़के से शादी करना चाहती थी

इसलिए मैंने बी उसे अपनी मर्ज़ी से रहने का फैसला किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.