इतिहासकार ने उठाई ‘अमित शाह’ के नाम बदलने की मांग,बोले-ये फ़ारसी शब्द है और गुजरात भी…

November 11, 2018 by No Comments

भाजपा सरकार विभिन्न शहरो के नाम बदलने का काम कर रही है जिसकी काफी लोग प्रशंसा कर रहे है लेकिन भाजपा को इसके लिए काफी आलोचना भी सहनी पड़ रही है.इस बीच जाने माने इतिहासकार इरफ़ान हबीब ने भाजपा के शहरो के नाम बदलने के नाम पर नाराज़गी जताते हुए भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष अमित शाह के नाम के बहाने भाजपा पर निशाना साधा है.उन्होंने अमित शाह का नाम फ़ारसी बताके इसे बदलने की मांग कर दी है.प्रोफ़ेसर इरफ़ान हबीब यही नही रुके उन्होंने गुजराती शब्द को भी विदेशी बताया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया  से बातचीत में प्रोफ़ेसर इरफ़ान हबीब ने कहाकि गुजरात शब्द फ़ारसी शब्द है पहले गुजरात को गुर्जरात्र कहा जाता था इस नाम को भी भाजपा को बदलना चाहिए.उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहाकि भाजपा की विचारधारा पडोसी मुल्क पाकिस्तान की विचारधारा से मेल खाती है.हबीब ने कहाकि पाकिस्तान में इस्लाम से अलग चीजों का विरोध हो रहा है वही भारत में आरएसएस और भाजपा दुसरे धर्म के नाम बदलने में लगी है.

प्रोफेसर हबीब ने खुलासा करते हुए शाह शब्द का मूल फारसी से है जिसका ​​मतलब राजा से होता है.शाह उपनाम भारत में अधिकतर सैय्यद मुस्लिमों के द्वारा लगाया जाता है.उन्होंने कहाकि शाह नाम भी अमित शाह को हटा देना चाहिए.उन्होंने भारत में आरएसएस पर कट्टरपंथी विचारधारा को बढावा देने का आरोप लगाया.


गौरतलब है कि यूपी सरकार ने हाल ही में मुग़ल सराय,इलाहाबाद और फैजाबाद के नाम बदल दिए जिसके बाद देश के विभिन्न नगरो के नाम बदलने की भाजपा और भगवा संघठन ने मांग कर दी.वही गुजरात सरकार ने अहमदाबाद का नाम बदलने का एलान कर दिया है जबकि आगरा के विधयाक जगन गर्ग ने आगरा का नाम बदल के अग्रवन या अग्रवाल करने की मांग कर दी है.जगन गर्ग का कहना है कि आगरा पाच हजार साल पहले एक वन वाला चेत्र था जिसको मुगलों ने अपनी हुकुमत में अकबराबाद नाम दिया और बाद में इसका नाम बदल कर आगरा कर दिया गया जबकि इस नाम का कोई मतलब नही है और इस नाम को बदलकर अग्रवन या अग्रवाल कर दिया जाये.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *