HP विधानसभा चुनाव: जीत पक्की करने के इरादे से वीरभद्र सिंह ने बदली सीट?

शिमला: हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने अपनी निर्वाचन सीट बदल ली है, जिससे कांग्रेस में असमंजस पैदा हो गया है। शिमला की ठियोग सीट छोड़ सीएम वीरभद्र सिंह ने अब सोलन की अर्की सीट से चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। सीएम के इस फैसले के पीछे कुछ लोगों का ये अनुमान है कि मुख्यमंत्री कोई रिस्क नहीं लेना चाहते । भाजपा प्रत्याशी राकेश वर्मा ठियोग सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में सिंह नहीं चाहते कि सीट पर प्रचार करने में समय नष्ट हो। इसलिए सीट बदलने के पीछे ये तर्क है कि सीएम को सेफ सीट से उतारा जाए ताकि उन्हें ज़्यादा प्रचार अपनी सीट के लिए ना करना पड़े।

वहीँ सोलन की अर्की सीट से सीएम वीरभद्र के खिलाफ बीजेपी के रतन सिंह पाल मैदान में उतरे हैं।इसके साथ राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता प्रेम कुमार धूमल अपनी वर्तमान विधानसभा सीट हमीरपुर से चुनाव न लड़कर सुजानपुर की सीट पर अपनी किस्मत आजमाने जा रहे हैं। सीएम वीरभद्र सिंह की सीट को लेकर पार्टी में राजनीति जोरों-शोरों पर है, कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता पार्टी के इस फ़ैसले से ख़ुश नज़र नहीं आ रहे हैं।कांग्रेस की वरिष्ठ मंत्री विद्या स्टोक्स ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से सीएम वीरभद्र को ठियोग से सीट चुनाव लड़ने को टिकट देने के लिए कहा है। स्टोक्स ने साथ ही ये भी कहा है कि ठियोग की जनता से वो स्वंय ये वादा कर चुकी हैं कि मुख्यमंत्री इस सीट से चुनाव लड़ेंगे.

गौरतलब है कि पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव इलेक्शन कमीशन की ओर से जारी कार्यक्रम के मुताबिक राज्य में एक ही चरण में 9 नवंबर को वोटिंग होगी और 18 दिसंबर को वोटों की गिनती होगी। कांग्रेस ने सीएम वीरभद्र सिंह को राज्य में चुनाव कैंपेन कमिटी का अध्यक्ष बनाया है। चुनाव की घोषणा के साथ ही राज्य में आचार संहिता लागू है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.