“हमारे ऊपर तो “भ्रष्टाचार” के आरोप शुरू से हैं तो क्या गठबंधन करते वक़्त नीतीश को नहीं पता था?”

पटना: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर के जदयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस्तीफ़े को भाजपा की मिली भगत बताया.
उन्होंने कहा,”मैंने रात को भी नीतीश जी से बात की थी.. कोई गलतफहमी है, तो बैठकर तय करो कि क्या करना है। नीतीश कुमार ने 40 मिनट तक डिप्टी सीएम से भी बात की। उन्होंने कहा था कि कोई इस्तीफा नहीं मांगा था। उन्होंने कहा था कि कोई हड़बड़ी नहीं है, प्रेस के माध्यम से आपलोग सफाई दे दीजिएगा। हम लोगों ने कहा था कि पब्लिक डोमेन में केस में बहुत गलतियां हैं। और एजेंसियां उसकी मरम्मत कर देंगी। वकीलों ने हमें राय दी थी कि मीडिया में बयान मत दीजिएगा… बिहार में जेडीयू के जो प्रवक्ता हैंं वे पुलिस नहीं है। जो भी कहना होगा, हम पब्लिक डोमेन में, एजेंसी में कहेंगे। आप पुलिस थाना नहीं हैं। सफाई दी थी और कायदे से बता दिया था। इनके सब प्रवक्ता यही कह रहे थे। ये मामला सेट था।

“खुद वे बोले कि हमने इस्तीफा नहीं मांगा था तो हमारी क्या गलती है। ये पूरा मामला सेट है। नतीश कुमार 302 के मामले में हैं। उसके खिलाफ संज्ञान लिया जा चुका है। 16-11-91 का मामला है। धारा है 147,149, 302, 307। ये नीतीश कुमार जी के ऊपर है। इसमें सजा आजीवन कारावास या फिर फांसी की है। इसे हम लोग बहुत पहले से जानते थे, लेकिन हमें ये उचित नहीं लगा था। 31-8-2009 को लोअर कोर्ट ने इस पर संज्ञान लिया था।”

उन्होंने आगे कहा, “ये मैं नहीं कह रहा हूं, नीतीश कुमार जी ने एमएलसी के डिक्लेरेशन में ये कहा था। उन्होंने स्वीकार किया था इस मामले को। कौन सा जीरो टॉलरेंस, कौन सी ईमानदारी। भ्रष्टाचार के कथित से बड़ा है अत्याचार। एक नागरिक और एक वोटर की हत्या। नीतीश कुमार ने इलेक्शन कमीशन में डिक्लेरेश में कहा था कि 302 और 307 का मुकदमा चल रहा है। जीरो टॉलरेंस वाले मुख्यमंत्री मेरे छोटे भाईसाब।”

उन्होंने बाद में ट्विटर के ज़रिये नीतीश पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा,”आरोप नीतीश और तेजस्वी दोनों पर है।महागठबंधन दलों के विधायको को बैठकर नया नेता चुनना चाहिए। बिहार की सामाजिक न्यायपसंद जनता की यही अपेक्षा है”

एक और ट्वीट में क़द्दावर राजद नेता ने कहा,”बिहार में रिकॉर्ड तोड़ बहुमत BJP के विरुद्ध मिला था। अब उसी BJP के समर्थन से नीतीश सरकार चलाकर नैतिकता का रिकॉर्ड स्थापित करेंगे।”

उन्होंने अपने ट्वीट में कहा,”हमारे ऊपर भ्रष्टाचार के तथाकथित आरोप पहले से ही थे। क्या गठबंधन करते और सरकार बनाते वक़्त नीतीश कुमार नहीं जानते थे?”

Leave a Reply

Your email address will not be published.