शिवपाल ने फिर कसा अखिलेश पर तंज़,’मैं सपा बचा रहा था’

October 22, 2018 by No Comments

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के बीच छिड़ी सियासी तकरार हर रोज एक नए उपमा से सुशोभित हो रही है. सपा से अलग होकर अपना अलग समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव ने एक बार फिर अखिलेश पर तंज कसा है. 

समाजवादी परिवार को मैं बचाना चाहता था- शिवपाल
मैैं दिल से चाहता था परिवार में एकता रहे, इसलिए इंतजार करता रहा लेकिन, अपमान जब बर्दाश्त से बाहर हो गया तो यह फैसला लेना पड़ा। मैैं समाजवादी पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष रह चुका हूं लेकिन, मुझे किसी बैठक में बुलाया तक नहीं जाता था। इस सवाल पर कि उनकी मजबूती भाजपा को फायदा पहुंचाएगी, शिवपाल कहते हैैं कि किसको फायदा हो रहा है, किसको नुकसान, यह मेरा विषय नहीं। फिर इसकी चिंता हम क्यों करें। 

भाजपा से मिलीभगत के आरोपों को सिरे से किया खारिज
शिवपाल सिंह यादव ने यह जोर देते हुए उस सवाल पर जवाब दिया जब पत्रकार ने पूछा कि क्या आपकी भारतीय जनता पार्टी से कोई मिलीभगत है इस सवाल पर शिवपाल सिंह यादव ने कहा की हम समाजवादी हैैं। भारतीय जनता पार्टी से हम हमेशा संघर्ष करते रहे हैैं। मैैं तो समाजवादी पार्टी को ही मजबूत करना चाहता था। तब क्यों नहीं मेरी मदद ली गई। मैैं तो अखिलेश यादव को ही मुख्यमंत्री बनाना चाहता था। जनेश्वर मिश्र पार्क में हुई रैली में मैैंने स्पष्ट कहा था कि अखिलेश यादव के नाम का प्रस्ताव मैैं खुद रखूंगा।

सपा अराजक लोगो की पार्टी रह गई है
समाजवादी सेकुलर मोर्चा के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी पर रहते हुए आरोप लगाया है समाजवादी पार्टी राजा के लोकगीत पार्टी ही रह गई है ।जितने नए लोग थे, उन्होंने पैसा कमाया, बंगलों पर कब्जा कराया। अब सपा में चुगलखोरों और चापलूसों का राज है। अपने नेता को हमेशा सही जानकारी देनी चाहिए लेकिन, सपा में अब किसी में यह साहस नहीं।

सपा के नाराज नेता समाजवादी सेकुलर मोर्चा के संपर्क में
समाजवादी पार्टी के तमाम नाराज नेता जो इस वक्त नई पार्टी समाजवादी सेकुलर मोर्चा के संपर्क में है एक के बाद एक शिवपाल यादव के माध्यम से वह समाजवादी सेकुलर मोर्चा को ज्वाइन कर रहे हैं, आगरा में भी समाजवादी पार्टी के कई नेता समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संपर्क में आ गए हैं। वो किसी भी दिन पार्टी को झटका देकर शिवपाल सिंह यादव के झंडे तले आ सकते हैं। मोर्चा के पदाधिकारी लगातार इनके संपर्क में हैं। 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *