इन 7 वक्तों में जब भी आप दुआ मागेंगे इंशा-अल्लाह ज़रूर कुबूल होगी, सुनिए मौलाना तारिक जमील साहब का ये फरमान…

January 14, 2019 by No Comments

अस्सलाम वालेकुम मेरे प्यारे भाइयों और बहनों आज हम आपको बताएंगे दुआ कब मांगे यानी कि ऐसे वक्त जो कि अल्लाह दुआओं को कुबूल करता है. दोस्तों दुआ कोई अल्फाज नहीं है यह एक कैफियत है जिसे सिर्फ महसूस किया जाता है आप अरबी में ,उर्दू में ,हिंदी में, इंग्लिश में या फ़ारसी में दुआ मांगे लेकिन पूरी तरीके से डूब के मांगे.
दुआ किसी अल्फाज की मोहताज नहीं है। कुर्बान जाओ उस खुदा पर जिसको पता था कि उसकी सारे बंदे नेक नहीं होंगे कुछ गुनाहगार भी होंगी इसीलिए अल्लाह ने दुआओं को कुबूल करने के लिए कोई लंबी चौड़ी शर्त नहीं लगाई सिर्फ एक छोटी सी शर्त लगाई है अल्लाह कहता है कि जब भी दुआ मांगो रो कर और तड़पकर दुआ मांगो.

google


दुनिया में बहुत सारे लोग हैं जो रोजा नहीं रखते हैं बहुत सारे हैं जो नमाज नहीं पढ़ते बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो हलाल कमाई नहीं करते हैं तो अगर ऐसा होता कि अल्लाह सिर्फ तक़वे वाले लोगों की दुआ सुनता तब तो बाकी गुनाहगारों की कोई दुआ ही कुबूल नहीं होती। इसलिए अल्लाह ने फरमाया है कि मेरे सभी बंदे सच्चे और नेक नहीं हो सकते हैं तो वह मेरे सामने रो कर दुआ मांगे जैसे कोई बच्चा रो कर अपनी मां से कुछ मांगता हो.
बच्चा भी अगर रोता है तो मां पहले इंकार करती है लेकिन अगर बच्चा लगातार रोता रहता है तो मां उसकी ख्वाहिश जरूर पूरी करती है ताकि बच्चा चुप हो जाए वैसे ही अगर तुम लगातार रो-रोकर अल्लाह से दुआ करो तो वह तुम्हारी दुआ जरूर कबूल करेगा. बहुत से लोग किताबों में देखकर दुआ पढ़ते हैं जब की दुआ पढ़ने का नाम नहीं है. दिल से निकलने वाली फरियाद को दुआ कहते हैं और अल्लाह ने कहा है तो मुझसे कभी याद करो मैं तुम्हारी दुआ कुबूल करूंगा.

google


अल्लाह ने कहा है कि मैं पुकारने वाले की पुकार को सुनता हूं चाहे वह मुसलमान हो, मोमिन हो या काफ़िर हो बस उसके दिल की फरियाद निकलनी चाहिए. एक बार हजरत उमर उमरा करने जा रहे थे उस वक्त हमारे नबी ने उनसे कहा कि उमर दुआ में हमें याद रखना. इस तरह दुआ के लिए किसी से कहना कोई गलत बात नहीं है.
कई बार लोग दूसरों से कहते हैं कि मेरे लिए खास दुआ करना जबकि खास दुआ वह होती है जो इंसान खुद अपने के लिए रो के और तड़प कर करता है आमतौर पर लोग कहते हैं अल्लाह मेरी दुआ नहीं सुनता है जबकि अल्लाह सब की हर दुआ सुनता है.

बस कुबूल करने की शक्ल अलग होती है कभी अल्लाह हमको वही दे देता है जो हम मांगते हैं लेकिन कभी-कभी वह हमें हमारी दुआ के मुताबिक नहीं देता है क्योंकि वह हमारे लिए मुनासिब नहीं होता है उस वक्त अल्लाह हमें वह देता है जो हमारे लिए मुनासिब होता है कभी-कभी अल्लाह दुआ के बदले में हम पर आने वाली मुसीबतें डाल देता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *