अमेरिका ने सऊदी अरब को अपमानित करना पड़ा महंगा ,ईरान नाराज़ होकर दे दिया बड़ा बयान

October 8, 2018 by No Comments

बीते कुछ समय से अमेरिका और कुछ मुस्लिम देशों के बीच सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है. बात चाहे तुर्की की करें या फिर इरान की यफ फिर सऊदी अरब की, इन तीनों देशों से अमेरिका के रिश्ते में कड़वाहट आई है. इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप के कुछ गैर ज़रूरी कदम की वजह से आज इन देशों और अमेरिका के बीच के रिश्ते में बदलाव आया है.

ट्रंप ने सऊदी पर की टिप्पणी

हाल ही में अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने सऊदी अरब को लेकर बड़ा बयान दिया था. उन्होंने सऊदी के किंग पर टिप्पणी की थी. हालाँकि इस टिप्पणी के बाद सऊदी प्रिंस की तरफ से अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप को करारा जवाब दिया था. उन्होंने कहा था कि अमेरिका की मदद के बिना भी सऊदी दो हज़ार साल रह सकता है.

सऊदी ने किया पलटवार

बहरहाल, इस बीच अब ईरान की तरफ से भी बड़ा बयान आया है. इरान ने अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप की आलोचना की है. माना जा रहा है कि अब सऊदी अरब और इरान के रिश्तों में मिठास आ सकती है. बताया जा रहा है कि अमेरिका के खिलाफ एकजुट होने के लिए इरान ने सऊदी अरब की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाया है. अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था कि अमेरिका की मदद के बिना सऊदी हुकूमत दो हफ्ते भी नहीं टिक पाएगी, जिसके जवाब में विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद जरीफ ने भी ट्वीट किया था. उन्होंने कहा कि अमेरिका का यह भ्रम है.

इरान भी बीच में कूदा

बता दें कि सत्ता में आने के बाद से अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप अपने बेहतरी के कामों से कम और विवादों की वजह से ज्यादा चर्चा में रह रहे हैं. इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि ट्रंप का विवादों से गहरा नाता रहा है. वहीँ उनके मुस्लिम विरोधी रुख से पूरी दुनिया वाकिफ है. राष्ट्रपति बनने से पहले ही उन्होंने मुस्लिम विरोधी बयानबाजी करना शुरू कर दिया था. हालाँकि दुनिया के सबसे बड़े और पुराने लोकतंत्र में उनका जीतना वाकई में चिंताजनक है.

सऊदी का किया समर्थन

हाल ही में येरुशलम को इजराइल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के उनके फैसले के आधार पर उनकी मानसिकता का अंदाजा लगाया जा सकता है. फिलहाल ट्रंप जिस नीति के साथ आगे बढ़ रहे हैं, उसकी वजह से और भी कई मुस्लिम देशों से अमेरिका के रिश्ते खराब हो सकते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *