ईरानी राष्ट्रपति पहुंचे दिल्ली, ‘पश्चिमी देशों की राजनीति के ख़िलाफ़ मुसलमानों को एक हो जाना चाहिए’

February 17, 2018 by No Comments

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी तीन दिवसीय भारत दौरे पर हैं। फ़िलहाल वो दिल्ली पहुंच गए हैं, इसके पहले वो दो रोज़ हैदराबाद में रुक कर आये। उन्होंने हैदराबाद की मक्का मस्जिद में जुमे की नमाज़ के बाद संबोधन भी किया। हैदराबाद में उन्होंने अलग अलग इस्लामिक स्कूल के स्कॉलर से मुलाक़ात की। उन्होंने कहा कि ‘इस्लाम के दुश्मनों’ से लड़ने के लिए एकता की ज़रूरत है।

उन्होंने पाश्चिम देशों की नीतियों की जबरदस्त आलोचना की। इस मौके पर आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असद उद्दीन ओवैसी भी मौजूद थे। ओवैसी हैदराबाद के सांसद हैं और देश के मुसलमानों के बड़े नेता माने जाते हैं। ईरान और संयुक्त राज्य अमरीका के सम्बन्ध काफ़ी समय से ख़राब चल रहे हैं. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सत्ता में आने के बाद से ये सम्बन्ध और ख़राब हुए हैं. ऐसे में ट्रम्प ने लगातार ईरान पर कूटनीतिक प्रतिबन्ध लगाने और लगवाने की कोशिश की है जिसकी वजह से ईरान में कई विकास कार्य धीमे पड़े हुए हैं.

रूहानी ने इस दौरे पर ईरान और भारत के रिश्तों को ख़ास बताया।उन्होंने कहा कि भारत धर्म का संग्रहालय है। गौरतलब है कि भारत और ईरान पुराने मित्र माने जाते हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बुलावे पर आए रूहानी ने दोनों देशों के क़रीबी रिश्तों को और मज़बूत करने की बात की। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि चाबहार पोर्ट योजना में हो रही देरी को लेकर भी चर्चा की जानी है। दिल्ली में रूहानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद समेत कई नेताओं से मिलेंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *