तो क्या झूठ बोल रहे हैं भाजपा प्रवक्ता?

February 17, 2018 by No Comments

अब जबकि cbi जांच में ये सामने आ रहा है कि पंजाब नेशनल बैंक स्कैम जिसमें नीरव मोदी मुख्य आरोपी है, में पैसे का जो भी हेर फेर हुआ है वो 2017 और 2018 में हुआ है। ऐसे में भाजपा प्रवक्ता का ये बयान कि ये घोटाला 2011 में हुआ था,अपने आप में झूठा साबित हो जाता है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण बहुत साफ़ तरह से कहती हैं कि ये घोटाले UPA के कार्यकाल में हुए, हम तो ढूंढ ढूंढ कर निकाल रहे हैं। देखा जाए तो भाजपा नेता अपनी पार्टी का दामन झाड़ने के लिए लगातार झूठ बोल रहे हैं।

घोटाला इतना बड़ा है कि इसमें कई नेताओं के भी शामिल होने की उम्मीद है। अब जबकि भाजपा के वरिष्ठ नेता इस तरह के बयान दे रहे हैं तो ये कैसे माना जाए कि भाजपा अपने नेताओं को बचाने की कोशिश नहीं करेगी। सबसे बड़ा सवाल ये है कि नीरव मोदी कैसे भागा और उसे भगाने में किसने मदद की। साथ ही साथ क्या उसे जान बूझकर जाने दिया गया क्योंकि वो इसमें कई और लोगों के नाम उजागर कर सकता था।

अभी ये तो कोई नहीं जानता कि नीरव मोदी किस किस का राज़ खोल सकता था लेकिन ये बात साफ़ है कि उसमें कुछ बहुत पहुंचे हुए लोग भी हैं जिनके नाम ना तो कोई ले रहा है और ना ही लेने की हिम्मत ही है. अभी तो घोटाले को लेकर भी ये अनुमान लगाए जा रहे हैं कि ये 11 हज़ार करोड़ से भी बड़ा घोटाला है और सोशल मीडिया पर कुछ लोग ऐसा भी कह रहे हैं कि घोटाला ६० हज़ार करोड़ का भी हो सकता है.

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *