महिलाएं इस काम के लिए करती थीं ‘प्याज’ का इस्तेमाल….जानकर आपके होश उड़ जायेंगे

March 23, 2019 by No Comments

आज भी कुछ चीजों का इतिहास हम नहीं जानते हैं भले ही यह जिसे हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में इस्तेमाल करते हो इसके पीछे कारण यह है कि रोजमर्रा में इस्तेमाल की जाने वाली यह चीजें इतनी आम बन जाती है कि हमें इनके बारे में जानना बे-फालतू लगने लगता है उदाहरण के तौर पर प्यार को ही ले लीजिए भारत में बहुत ही कम ऐसे घर होंगे जिनमें प्याज का इस्तेमाल ना होता हो।
सब्जी को स्वादिष्ट बनाने के लिए प्याज का इस्तेमाल किया जाता है।लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्याज में सब्जी का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ और भी कई गुण शुमार हैं।माना जाता है कि प्याज में कई मेडिसिनल प्रॉपर्टीज में मौजूद हैं जो की मर्दों में होने वाले कई गुप्त रोगों के लिए वरदान साबित होता है।गौरतलब है कि प्यार की सबसे ज्यादा पैदावार भारत के राज्य महाराष्ट्र में होती है।

प्याज


इसके बाद नंबर आता है कर्नाटक उड़ीसा उत्तर प्रदेश तमिलनाडु और गुजरात जैसे राज्यों का जहां पर प्याज भरपूर मिलता है।प्याज को सब्जियों में तो डाला ही जाता है इसके साथ साथ लोग अक्सर प्याज का सलाद के रूप में भी खाते हैं अब हम आपको जो बताने जा रहे हैं शायद इस बार आपको यकीन ना हो लेकिन प्यार को लेकर हाल ही में हुई रिसर्च में ये सामने आया है कि महिलाएं पहले प्याज का इस्तेमाल केवल खाना बनाने के लिए ही नहीं करती थी,बल्कि वह इसका इस्तेमाल कई और कामों के लिए भी होता था।
प्याज के इतिहास के बारे में ज्यादा कुछ किसी को भी कुछ ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है।लेकिन पांच हजार साल पहले हुई खुदाई में प्याज के जो अवशेष मिले उससे एक अहम जानकारी सामने आई है।आपको बता दें कि मिडिल ईस्ट के देश मिस्र में ईसा से तीन हजार साल पहले प्याज की खेती होने की बात सामने आई है।दरअसल मिस्र के राजा रामसेस चतुर्थ की ममी में भी प्याज के अवशेष पाए गए थे।

प्याज


प्याज के बारे में ये हैरानीजनक बात सामने आई है कि पहले के समय महिलाएं पूजा करने के लिए प्याज का इस्तेमाल करती थी।इसके अलावा जब कोई शख्स भगवान को प्यारा हो जाता था तब उसके अंतिम संस्कार के दौरान भी प्याज का इस्तेमाल किया जाता था।इसके अलावा जिन महिलाओं को मां बनने में समस्या होती थी।तब उस जमाने के डॉक्टर उनका इलाज डॉक्टर प्याज से ही करते थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *