SC-ST के ख़िलाफ़ फ़ोन पर जातिसूचक टिपण्णी अपराध है: सुप्रीम कोर्ट

November 20, 2017 by No Comments

सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम् फ़ैसले में ये कहा कि सार्वजानिक स्थान पर फ़ोन करके किसी को जातिसूचक टिपण्णी करना अपराध माना जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति श्रेणी के लोगों के ख़िलाफ़ जाति सूचक टिपण्णी अगर की जाती है तो ये अपराध है. इसके लिए 5 साल तक की सज़ा हो सकती है.

न्यायमूर्ति जे चेलामेश्वर और एस अब्दुल नज़ीर की पीठ ने इलाहबाद हाई कोर्ट द्वारा 17 अगस्त को सुनाये गए एक फ़ैसले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया. इस मामले में एक व्यक्ति पर अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की महिला के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक शब्द इस्तेमाल करने का आरोप है.

कुछ अन्य ख़बरें, एक नज़र में..
1. फ़िल्म पद्मावती को लेकर शुरू हुआ विवाद ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस मामले में बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि पद्मावती विवाद बहुत सोच समझ कर पैदा किया गया है. उन्होंने इसे एक राजनीतिक पार्टी की साज़िश बताया है. उन्होंने कहा कि एक राजनीतिक पार्टी का ये सोचा-समझा प्लान है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी को ख़त्म किया जाए.

2. गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने 28 उमीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी कर दी है.

3.कांग्रेस पार्टी में राहुल गाँधी को अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर प्रस्ताव लाया गया है. अगर कोई अन्य उमीदवार सामने नहीं आएगा तो राहुल गाँधी अध्यक्ष होंगे. कुल मिलाकर अब राहुल गाँधी के अध्यक्ष चुने जाने में महज़ औपचारिकता ही लग रही है.

4. हरियाणा भाजपा के चीफ़ मीडिया कोरडिनेटर सूरज पाल अमु के ख़िलाफ़ पार्टी ने शो-कॉज नोटिस जारी किया है. अमु ने कल संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण का सर काटने वाले को 10 करोड़ का ईनाम देने की बात कही थी. अमु पद्मावती फ़िल्म से नाराज़ हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *