जानिये क्यूँ भाजपा को नहीं मिल पाता मुसलमानों का वोट; मुस्लिम समाज का ओपिनियन

September 4, 2017 by No Comments

लखनऊ से रिपोर्ट: भारतीय जनता पार्टी मौजूदा दौर में देश की सबसे ज़्यादा वोट हासिल करने वाली पार्टी है. इसके बाद भी पार्टी को अल्पसंख्यक समुदाय का वोट नहीं मिलता. इसकी क्या वजह है और क्या ये बात वाक़ई सच है? हमने इसी सवाल को लेकर कुछ मुसलमान लोगों से बात करने की कोशिश की. जब हमने एक नौजवान लड़के से पूछा कि आप भाजपा को क्यूँ नहीं वोट देते हैं तो उसने जवाब दिया कि भाजपा खुलेआम मुसलमानों को गाली देती है, उन्हें कोई मुसलमान वोट नहीं कर सकता. लखनऊ के ख़दरा इलाक़े में जब हमने पूछा कि आख़िर क्यूँ आप भाजपा को वोट नहीं देते तो वहां भी इसी तरह के जवाब आये. एक आदमी ने कहा कि भाजपा मुसलमानों के लिए कुछ नहीं करती. इस पर हमने उनसे कहा कि अगर आप उन्हें वोट देने लगें तो शायद वो मुसलमानों के लिए भी कुछ करें. इस पर उन्हीं के साथ खड़े एक आदमी ने कहा तो क्यूँ ना पहले भाजपा मुसलमानों के लिए कुछ करे. कुछ ऐसा करे कि लगे कि हाँ भाजपा कुछ कर रही है.बग़ल में खड़े एक और शख्स ने कहा कि भाई उन्हें मुसलमानों को गालियाँ देने से ही फ़ुर्सत नहीं है..उन्हें वोट सिर्फ़ इसी बसे पैर मिलता है कि वो मुस्लिम-विरोधी हैं. उन्हें सेक्युलर आदमी वोट नहीं करता.

वहीँ पर आ जा रहीं जब कुछ औरतों से हमने जानने की कोशिश की कि क्या वो ट्रिपल तलाक़ के फ़ैसले के बाद भाजपा को वोट देंगे तो उन्होंने कहा कि जिसको ट्रिपल तलाक़ से कोई फ़ायदा हुआ हो वो ही करे वोट..हमें तो कोई नहीं मिला आजतक ट्रिपल तलाक़ वाला.

लखनऊ के दूसरे मुस्लिम इलाक़ों से भी इसी तरह की राय हमें हासिल हुई. लोगों की बड़ी नाराज़गी भाजपा नेताओं की “मुस्लिम विरोधी” बयानबाज़ी, गौ-गुंडों का खुला समर्थन, इस्लाम को मीडिया वग़ैरा के ज़रिये बदनाम करने की कोशिश, इत्यादि की वजह से है. ट्रिपल तलाक़ के मस’अले पर भी लोगों की नाराज़गी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की नीयत से है. एक बुज़ुर्ग ने हमसे बात करते हुए कहा कि हो सकता है इससे कोई फ़ायदा हो भी जाए कम्युनिटी को लेकिन वो महज़ तुक्का होगा क्यूंकि नीयत में इनकी ये है कि मुसलमानों को बदनाम किया जाए और वही ये लगातार कर रहे हैं.
हालाँकि लोगों ने कहा कि भाजपा मुसलमानों का भला नहीं कर सकती तो कोई बात नहीं लेकिन बुरा तो ना करे. एक नौजवान ने कहा कि अरे भाई मुसलमान छोडिये ना आप, ये हिन्दू का ही भला कर लें पहले. उसने कहा कि हिन्दुओं को वर्गाला कर वोट तो ले लेते हैं लेकिन करते उनके लिए भी कुछ नहीं हैं. कुछ नौजवान लड़कों ने कहा कि दलितों को भी देखिये ना आप किस तरह मारा जा रहा है.

बहरहाल बुजुर्गों ने भाजपा के नेताओं को राय दी है कि अगर वोट चाहते हैं तो लड़ाई-झगडे नहीं मुहब्बत की बात करें. मुसलमानों, अनुसूचित और पिछड़ी जातियों के लोगों पर हमले करके कुछ हासिल नहीं होना है. हम उम्मीद करेंगे कि बुज़ुर्गों की राय आगे तक पहुंचेगी.

हालाँकि लोगों ने कहा कि भाजपा मुसलमानों का भला नहीं कर सकती तो कोई बात नहीं लेकिन बुरा तो ना करे. एक नौजवान ने कहा कि अरे भाई मुसलमान छोडिये ना आप, ये हिन्दू का ही भला कर लें पहले. उसने कहा कि हिन्दुओं को वर्गाला कर वोट तो ले लेते हैं लेकिन करते उनके लिए भी कुछ नहीं हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *