जन्नत की खुशबु मिस्र के इस शहर में आती है-मौलाना तारिक जमील साहब ने बताया…

January 8, 2019 by No Comments

दोस्तों अस्सलाम वालेकुम रहमतुल्लाह बरकातहू दोस्तों आज हम आपको मिस्र की एक ऐसी जगह के बारे में बताएंगे जहां से जन्नत की खुशबू आती है दोस्तों आइए आपको बताते हैं वह कौन सी जगह है दोस्तों मौलाना तारिक जमील साहब फरमाते हैं कि 2000 साल के बाद मूसा अली सलाम के तशरीफ लाने के 2000 साल के बाद हजरत मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम दुनिया में तशरीफ़ लाएं और हमारे नबी को 40 साल की उम्र में नबुवत मिली और 50 साल की उम्र में मेराज हुआ 2000 और प्लस 50 यानी कि 2050 साल के बाद हमारे नबी की सवारी बैतूल मुकद्दस जा रही है.
जब वह बैतूल मुकद्दस के ऊपर पहुंचे तो मिस्र वहां से करीब हो जाता है और जब वह उतरने लगे तो उन्होंने जिब्राइल से कहा कि जिब्राइल जन्नत की खुशबू आ रही है और यह कहां से आ रही है और अभी जन्नत तो ऊपर है तो यह जमीन से कहां से जन्नत की खुशबू आ रही है तो जिब्राइल अली सलाम ने इरशाद फरमाया कि फिरौन की एक बांधी थी जो अल्लाह से सौदा कर गई अपनी जान का और अल्लाह के रास्ते में अपने और अपने बच्चियों की जान दे दी उसको जहां दफन किया गया है और ये खुशबू जिस दिन उसको दफन किया गया है उस दिन से आ रही है और यह कयामत तक आती रहेगी.

google


अल्लाह अपने नाम पर कुर्बान होने वाले लोगों को ऐसे ही इनाम देता है, दोस्तों मौलाना तारिक जमील साहब कहते हैं कि पहले अपनी मंजिल तय करो कि हमें अल्लाह से क्या लेना है हमें अल्लाह का कुर्ब हासिल करना है और मुझे अल्लाह को पाना है दोस्तों अगर अल्लाह राजी है तो मौत से बढ़कर कोई खुशी नहीं और उससे अच्छा कोई तोहफा नहीं और उससे अच्छा कोई पैगाम नहीं और अगर अल्लाह नाराज है तो उससे बुरी कोई बात नहीं.
मुझसे बुरा कोई पैगाम नहीं फिरौन दुनिया का वाहिद इंसान है जिसने खुद को रब कहा कि मैं सबसे बड़ा रब हूं, मैं सबसे बड़ा खुदा हूं, मैं ही अल्लाह हूं अपने आप में रब होने का दावा इंसानों में सिर्फ फिरौन का है. दोस्तों मौलाना तारिक जमील साहब कहते हैं कि अल्लाह का पा लेना यह मेरे और आपके लिए मेराज है यानी यह हमारे और आपके लिए सबसे बेहतर चीज है और अल्लाह को छोड़ देना ही सबसे बुरा है.

google


यानी आप दुनिया से भी चले जाएंगे और मरने के बाद हमेशा हमेशा पूरी जिंदगी में भी नाकाम हो जाएंगे, दोस्तों अल्लाह ने इंसान की कामयाबी अपने मुबारक दीन में रखी है जिसने अपनी जिंदगी में अल्लाह का हुक्म माना और रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम की सुन्नतों पर अमल किया वह दुनिया में भी कामयाब होगा और मरने के बाद वाली जिंदगी में भी कामयाब होगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *