जदयू के 20 से अधिक विधायकों के टूटने की चर्चा..

पटना: बिहार की राजनीति में अफवाहों का बाज़ार पूरी तरह से गर्म चल रहा है. आम गली चौराहों पर नीतीश कुमार के भाजपा में जाने की चर्चा है. ये देखा जा सकता है कि आम जनता में तेजश्वी यादव को लेकर सहानुभूति है जबकि नीतीश को लेकर नाराज़गी है. इसके दूसरी तरफ़ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 28 जुलाई को विधानसभा में बहुमत सिद्ध करना है. इसके लिए उनको 122 वोट की ज़रुरत है जबकि उनके 71 विधायक और 53 भाजपा के हैं. अगर दोनों को मिला दिया जाए तो ये संख्या 124 होती है और बाक़ी NDA घटक दलों को मिलाएं तो ये 129 हो जाती है.

अभी तक तो ऐसा लग रहा है सब नार्मल है लेकिन अन्दर से आ रही ख़बरें नीतीश कैंप के लिए अच्छी नहीं हैं. अफवाह का बाज़ार गर्म है कि नीतीश के दो दर्जन विधायक टूट रहे हैं. ऐसा नहीं है कि ये महज़ एक अफ़वाह है. एक तरह की बेचैनी जदयू के बड़े नेताओं के अन्दर देखने को मिल रही है जबकि दूसरी तरफ़ राजद नेता बड़े विशवास से कह रहे हैं कि जदयू के विधायक बड़ी संख्या में नीतीश का विरोध कर रहे हैं. क्या हक़ीक़त है ये तो 28 जुलाई सुबह 11 बजे पता चल जाएगा लेकिन माहौल में पूरी हलचल है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.