गुजरात: शांतिपूर्ण तरीके से प्रोटेस्ट कर रहे जिग्नेश मेवानी को हिरासत में लेना गलत है

February 18, 2018 by No Comments

गुजरात के वडगाम से विधायक जिग्नेश मेवानी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। दलित कार्यकर्ता भानुभाई वानकर की मौत पर जिग्नेश ने गुरूवार पाटन में विरोध प्रदर्शन का ऐलान किया था, जिसके चलते आज अहमदाबाद बंद रहा। पाटन में डीएम के ऑफिस के सामने खुद को आग लगाकर जान देने वाले भानु वानकर की मौत के मामले में जिग्नेश मेवानी ने सरकार को घेरते हुए लोगों से सारंगपुर में बाबासाहेब अंबेडकर की प्रतिमा के पास इकट्ठा होने की अपील की थी। लेकिन जैसे ही जिग्नेश और उनके समर्थक विरोध के लिए निकले गुजरात पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

दलित कार्यकर्ता जिग्नेश मेवानी के राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच (आरडीएएम) ने प्रेस रिलीज जारी कर सरकार को अल्टीमेटम दिया था कि वानकर की हत्या में जिस किसी का भी हाथ है उसकी पहचान शनिवार तक हो जानी चाहिए। लेकिन सरकार की तरफ से कोई कार्रवाई न होने के बाद रविवार को दलित समुदाय ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया।

जिग्नेश मेवानी और उनके साथ प्रदर्शन कर रहे साथियों ने पुलिस के इस कदम को गलत बताया है।  इस मामले में जिग्नेश मेवानी की टीम ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट करके बताया है, ‘जिग्नेश मेवानी और उनके साथियों को कार से निकाल के, कार की चाबी तोड़के गलत तरीके से अज्ञात लोगों को कोई अज्ञात जगह पर ले गए है।
एक अन्य ट्वीट में बताया गया कि ‘समर्थकों को भानुभाई की मौत मामले में शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने के लिए हिरासत में लिया गया है।आपको बता दें की भानुभाई वानकर का शव गांधीनगर सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने के लिए लाया गया था। पोस्टमार्टम के बाद उनके परिवार वालों ने उसका शव लेने से इनकार करते हुए कहा था कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होंगी, वह शव नहीं लेंगे। वानकर की मौत के बाद से ही गुजरात के दलित समुदाय में गुस्सा भरा हुआ है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *