जिग्नेश के राजनीति में आने से बीजेपी है परेशान, “क्यूंकि सत्ता हाथ से खिसक रही है”

December 6, 2017 by No Comments

गांधीनगर: गुजरात में दलित आंदोलन से जुड़े जिग्नेश मेवाणी निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। जिग्नेश इस चुनाव में बनासकांठा की वडगाम विधानसभा सीट से मैदान में उतर चुके हैं। जिसके चलते वह काफी सुर्खियों में बने हुए हैं। जिग्नेश दलित समुदाय के एक ऐसी आवाज़ बनकर उभरे हैं, जिसने गुजरात में हुए दलित मारपीट कांड के बाद पूरे समुदाय को एकजुट कर बीजेपी के खिलाफ एक आंदोलन चलाया।
आज वह इस चुनावी दंगल में बीजेपी को निर्दलीय टक्कर देने उतरे हैं, लेकिन उन्हें कांग्रेस समेत अन्य कई राजनीतिक दलों का समर्थन हासिल है। गुजरात में विधानसभा चुनाव तीन दिन बाद होने जा रहे हैं, जिसके चलते प्रचार जोरों-शोरों पर चल रहा है। प्रचार के दौरान दलित नेता जिग्नेश मेवानी और उनके साथ दलित कार्यकर्ताओ पर हमले हो चुके हैं।
खबर के मुताबिक, 5 दिसंबर को जिग्नेश पर हमला हुआ. उनके काफिले की कार के शीशे तोड़े गए. उनके या उनके समर्थकों पर यह तीसरा हमला था। इस हमले को लेकर जिग्नेश ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाए. यहां तक कि उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को टैग करते हुए ट्वीट भी किया है।

जिग्नेश पर हुए हमले का सोशल मीडिया पर काफी विरोध किया जा रहा है। इसके साथ गुजरात में सामाजिक कार्यकर्ता बीना ने कहा कि दलित उत्पीड़ने के मामले गुजरात देश में दूसरे नंबर पर आता है। उनका कहना है कि जिग्नेश का राजनीति में आने का फैसला बहुत लोगों को खल रहा है।

वह सिर्फ चुनाव ही नहीं लड़ रहे बल्कि उनके खिलाफ लोगों को जागरूक भी कर रहे हैं। जिससे बीजेपी परेशान हो रही है, क्यूंकि बीजेपी के हाथों से गुजरात की सत्ता खिसक रही है। उनके कार्यकर्ता हिंसा करने पर उतारू हो चुके हैं। लेकिन इस तरह की हरकतों से बीजेपी को और ज्यादा नुक्सान होगा। जबकि जिग्नेश मेवाणी पर किए गए हमले से वह और मजबूत होंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *