#DareToRaidAmitShah: केजरीवाल से फुर्सत मिले तो जज लोया के खूनी से भी पूछताछ कर लीजिये

February 23, 2018 by No Comments

सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर #DareToRaidAmitShah ट्रेंड कर रहा है। ये हैशटैग ट्विटर पर उस घटना के बाद शुरू हुआ है, जिसमें दिल्ली पुलिस ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट मामले की जांच में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के आवास पर पहुंची।
जानकारी के अनुसार सीएम आवास पर करीब 25 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं लेकिन जिस जगह पर उस दिन मीटिंग की गई थी, वहां पर सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा हुआ था।  दिल्ली पुलिस के सीएम आवास पहुंचने पर केजरीवाल भी वहीँ मौजूद थे।

इस मामले में मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ट्विटर पर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि ख़ूब पुलिस मेरे घर भेजी है। मेरे घर की छानबीन चल रही है। बहुत अच्छी बात है। पर जज लोया के क़त्ल के मामले में अमित शाह से पूछताछ कब होगी? दो थप्पड़ के आरोप की जाँच के लिए CM के पूरे घर की तलाशी। जज लोया के क़त्ल पर पूछताछ तो बनती है। नहीं?

दिल्ली सरकार के प्रवक्ता अरुणोदय प्रकाश ने इस मामले में ट्वीट कर लिखा है कि मुख्यमंत्री आवास को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया. बिना किसी सूचना के बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी मुख्यमंत्री आवास में घुस आये। पुलिस राज ने दिल्ली में लोकतंत्र की हत्या कर दी. मुख्यमंत्री आवास के अंदर पुलिस चारों ओर फैल गई। अगर वे एक निर्वाचित मुख्यमंत्री के साथ ऐसा कर सकते हैं तो सोचिए वे गरीब लोगों के साथ क्या कर सकते हैं!!!

#DareToRaidAmitShah हैशटैग में सोशल मीडिया यूज़र्स भी केंद्र में बैठी बीजेपी से सवाल पूछ रहे हैं कि दो थप्पड़ों के चलते सीएम आवास में इतने बड़े लेवल पर छानबीन की जा रही है, क्या जज लाया की संदिग्द मौत के मामले में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से पूछताछ करने की हिम्मत हैं किसी में ? देश जानना चाहता है कि जज लाया की मौत कैसे हुई ?
लोगों ने अमित शाह को जज लाया का खुनी करार देते हुए कहा है कि अगर सीएम आवास की चेकिंग से फुर्सत मिले तो क्या जज लोया के खूनी से भी पूछताछ कर लीजिये। सीएम केजरीवाल के आवास पर रेड डालना जायज है, लेकिन क्या अमित शाह के घर पर रेड नहीं होनी चाहिए। दो लोगों के लिए कानून अलग-अलग क्यों ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *