युवा हुंकार रैली: बाबा साहेब के रास्ते पर चलकर, लोकतंत्र को बचाना हमारी जिम्मेदारी है: कन्हैया कुमार

January 9, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: दलित नेता और गुजरात से पहली बार विधायक बने जिग्नेश मेवाणी की संसद मार्ग से पीएम निवास तक ‘युवा हुंकार रैली’ को दिल्‍ली पुलिस ने इजाजत नहीं दी है। इसपर जिग्नेश ने कहा कि हम केवल शांतिपूर्ण तरीके से रैली निकालना चाह रहे थे। लेकिन इसके लिए इजाजत न मिलना दुर्भाग्यपूर्ण है।
पुलिस की रोक के बावजूद गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी और उनके समर्थक राजधानी दिल्ली के संसद मार्ग पर युवा हुंकार रैली की।

इस रैली में जिग्नेश के साथ इस रैली में जेएनयूएसयू की उपाध्यक्ष शेहला रशीद, जेएनयूएसयू के अध्यक्ष कन्हैया कुमार, जेएनयू छात्र उमर खालिद, असम के नेता और आरटीआई एक्टिविस्ट अखिल गोगोई, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष समेत, AISA और एसएफआई के कार्यकर्ता मौजूद रहे।

इस रैली में पहुंचे युवाओं को संबोधित करते हुए कन्हैया ने कहा, हम एक शांतिपूर्ण समाज चाहते हैं, जिसमें हर धर्म, समुदाय के लोगों को बराबर की आजादी होनी चाहिए। इस दौरान कन्हैया ने बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। कन्हैया ने कहा कि हम जो लड़ाई लड़ रहे हैं, वह किसी एक धर्म के लिए नहीं, किसी एक लिंग के नहीं है, हमारी लड़ाई समाज के अंदर जो ऊंच-नीच है उसके खिलाफ है।
आज देश में कॉर्पोरेट वालों का राज चल रहा है, बीजेपी कहती है कि जिग्नेश मेवानी प्रधानमंत्री का मजाक उड़ाते हैं। जिग्नेश मोदी जी का मजाक उड़ा सकते हैं, लेकिन जो जिग्नेश का मजाक उड़ाते हैं तो अनंत अंबानी का मजाक नहीं उड़ा सकते। ऐसा करने वालों को रातों-रात इंटरनेट से गायब कर दिया जाता है।
कन्हैया ने पीएम मोदी पर जुबानी हमला करते हुए कहा, जब तक आप पर रिलायंस का हाथ बना रहेगा। देश का लोकतंत्र मजबूत नहीं होगा, कॉर्पोरेट मजबूत होगा। भीम आर्मी के संस्थापक की रिहाई की मांग करने के लिए की इस गई युवा हुंकार रैली में कन्हैया ने कहा- चंद्रशेखर ने सही कहा है कि हमारी जात शोषितों की जात है।

इस देश में जितने भी दबे-पिछड़े लोग हैं, उनके लिए आवाज़ उठाना हमारी जिम्मेदारी है, इस देश के लोकतंत्र को बचाना हमारी जिम्मेदारी है।
हमने इस देश में हो रहे अन्याय के खिलाफ सामाजिक न्याय की लड़ाई छिड़ी है। न्याय के लिए ईमानदारी की जरूरत है। कन्हैया ने कहा कि हमारे अंदर चाहे जितना भी गुस्सा हो।

हमें नफरत और हिंसा की राजनीति नहीं करनी है, ये बीजेपी की राजनीति है। हमें प्यार-मोहब्बत से लड़ना है। हमें बाबा साहेब के रास्ते पर चलना है, हमें अपनी बातों में हिंसा नहीं लानी है। हमें इंसानियत के रास्ते पर चलना है, और किसी भी परिस्थिति में अपनी विचारधारा से पीछे नहीं हटना है।

[get_Network_Id]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *