द कश्मीर फाइल्स पर सोशल मीडिया पोस्ट करना पड़ा भारी, मंदिर की चौखट पर दलित युवक को दी गयी ऐसी क्रूर सज़ा

कश्मीर पंडितों के विस्थापन पर बनी फिल्म द कश्मीर फाइल्स इस समय काफी चर्चा में है, लोग इस फिल्म को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी यह फिल्म काफी चर्चा में है और लोग इस फिल्म की तारीफ कर रहे हैं। लेकिन सोशल मीडिया पर फिल्म को लेकर सवाल-जवाब के बीच इसको लेकर विवाद भी सामने आ रहे हैं। लोग ना सिर्फ एक दूसरे के साथ विवाद कर रहे हैं बल्कि मारपीट तक करने पर ऊतारू हो जा रहे हैं। ऐसा ही एक मामला राजस्थान के अलवर में सामने आया है।

राजस्थान के अलवर में 32 साल के दलित व्यक्ति ने फेसबुक पर एक पोस्ट लिखा था, जिसमे उन्होंने सवाल उठाया था कि अगर कश्मीरी पंडितों के विस्थापन पर बनी फिल्म को टैक्स फ्री किया जा सकता है तो दलितों पर बनी फिल्म जय भीम को टैक्स फ्री क्यों नहीं किया गया। लेकिन अलवर के गोकलपुर गांव में रहने वाले मेघवाल को फेसबुक पर यह पोस्ट करना भारी पड़ गया।मेघवाल ने बताया कि जब मैंने सोशल मीडिया पर पोस्ट किया तो लोग मेरी पोस्ट पर धार्मिक कमेंट करने लगे और नारे लगाने लगे। लोग यहीं नहीं रुके उन्होंने मुझे धमकी भी देनी शुरू कर दी। लोग मुझपर दबाव बनाने लगे कि मैं इसके लिए मांफी मांगू। मुझपर गांव के लोग और पूर्व सरपंच ने गांव के मंदिर में आकर मांफी मांगने के लिए कहा।

उन्होंने मुझसे कहा कि अगर मैं ऐसा करता हूं तो मुझे परेशान नहीं किया जाएगा। लेकिन इन लोगों ने मुझपर दबाव बनाना शुरू कर दिया और जबरन मुझे मंदिर की चौखट पर नाक रगड़ने को मजबूर किया गया।इस घटना के बाद मेघवाल ने बहरोड़ थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई।

जिसके बाद पुलिस ने 11 लोगों के खिलाफ संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया। मेघवाल ने बताया कि इन लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराने के बाद भी मुझपर काफी दबाव बनाया जा रहा है, मेरी जान को खतरा है और मैं काफी डरा हुआ हूं। वहीं पुलिस अधिकारी ने बताया कि 11 आरोपियों में से 7 को गिरफ्तार कर लिया गया है, हम मामले की जांच कर रहे हैं।