कश्मीर में धारा 370 खत्म करने पर क्या है मोदी का रुख?,चहेते सीएम ने कही ये बात

February 22, 2019 by No Comments

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले भारत में हुए आ’तंकी ह’मले को इस वक्त राजनीतिक पार्टियां चुनावी मुद्दा बनाने की कवायद में जुटी हुई है।खासतौर पर भारतीय जनता पार्टी पाकिस्तान के नाम पर लोगों को भावुक कर वोट बटोरने की कोशिशों में है।गौरतलब है कि पुलवामा आ’तंकी ह’मले के बाद देशभर में जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाने का मुद्दा जोर पकड़े हुए हैं।
माना जा रहा है कि मोदी सरकार आने वाले लोकसभा चुनावों की तारीख आगे बढ़ाने के लिए पुलवामा मामले को भुनाने में लगी हुई है।इस मामले में कई दिग्गज राजनेताओं का कहना है कि जम्मू कश्मीर से अब धारा 370 को खत्म करने का वक्त आ गया है क्योंकि इससे अलगाववादियों को प्रोत्साहन मिलता है।

नीतीश कुमार


जिससे देश की एकता और अखंडता खतरे में जाती है।अब खबर सामने आ रही हैं कि बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कश्मीर में धारा 370 को खत्म नहीं किए जाने का समर्थन किया है।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि संविधान में इसका प्रावधान है और आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए धारा 370 को हटाने की जरूरत नहीं है।
खबर के मुताबिक मीडिया के साथ बातचीत करते हुए नीतीश कुमार ने कहा है कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद इस वक्त पूरा देश आक्रोशित है।इस मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए जल्द ही देश में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं और इससे पहले लोग कुछ ना कुछ टिप्पणियां करते रहेंगे।लेकिन धारा 370 को खत्म करना कोई हल नहीं है।
हमें पुलवामा घटना के बाद कश्मीरी लोगों के बारे में गलत अवधारणा नहीं बनानी चाहिए।आपको बता दें कि भारतीय संविधान की धारा 370 जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करती है। साल 1947 में विभाजन के वक़्त जब जम्मू-कश्मीर को भारतीय संघ में शामिल करने की प्रक्रिया शुरू की गई थी।

धारा 370


उस समय जम्मू-कश्मीर के राजा हरि सिंह इसमें शामिल नहीं होना चाहते थे।इसी दौरान पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर पर हमला कर दिया।जिसके बाद संघीय संविधान सभा में गोपालस्वामी आयंगर ने धारा 306-ए का प्रारूप पेश किया।यही बाद में धारा 370 बनी। जिसके तहत जम्मू-कश्मीर को अन्य राज्यों से अलग अधिकार मिले हैं।जिसे अब राजनीतिक दल हटाने की मांग कर रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *