खाली पेट सुबह पानी पीने वालों पहले ये विडियो ज़रूर देख लो ,क्या पीना सही है या गलत? देखिये विडियो

दोस्तो आज हम निहार मुंह पानी पीने के बारे के बात करने जा रहे है आपको बता दे की निहार मुंह पानी का मतलब है कि बासी मुंह पानी पीना दोस्तो आज दुनिया में इस चीज को लेे कर बहुत से फायदे बताए जाते है वहीं कुछ डॉक्टर्स ऐसा कहते हैं की निहार मुंह पानी पीना सेहत के लिए सही नहीं है दोस्तों कई जगह घुटनों के दर्द के मरीजों को निहार मुंह पानी पीने के लिए डॉक्टर मना करते हैं लेकिन दोस्तों दुनिया कई महिरीन निहार मुंह यानी कि बासी मुंह पानी पीने के लिए कहते हैं तो वहीं कई महीरीन निहार मुंह पानी पीने के लिए मना करते हैं.
लेकिन दोस्तों ज्यादा अहम सवाल यह है कि निहार मुंह पानी पीने की शरई हुकुम क्या है हदीसे नबवी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इस हवाले से क्या तर्गीब फरमाया है तू दोस्तों दुनिया के महिरिनो की तरह यहां भी उलमा की कई राई सामने आती है क्योंकि दोस्तों कुछ हदीस में निहार मुंह पानी पीने के फायदे बताएं गए हैं तो कुछ हदीसओं में निहार मुंह पानी पीने के नुकसान भी बताएं गए है दोस्तों पहले दोनों गेरोहो के दलील पेश करेंग उसके बाद बाकी बाकी की राय को बताएंग सबसे पहले उन अलीम की राय को पेश करते हैं जो निहार मुंह पानी पीने के लिए मना करते है.

PHOTO CREDIT-GOOGLE SEARCH

दोस्तों जो हनुमान निहार मुंह पानी पीने के लिए मना करते हैं वह हदीस पेश करते हैं कि रसूल अल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया की जिसने निहार मुंह पानी पिया उसकी ताकत कम हो गई अबू हुरैरा रजि अल्लाह अन्ही से रिवायत है की जिसने निहार मुंह पानी पिया उसकी ताकत कम हो गई दोस्तों इमाम शाफी का एक कॉल है कि की कुछ चीजें इंसानी ताकत को कम कर देती है जैसे बैतूल खला से निकल कर पानी पीना और निहार मुंह पानी पीन और बहुत ज्यादा गम और फिक्र में रहना दोस्तों कुछ तिब्बी माहिरीन कभी यह कहना है कि निहार मुंह पानी पीने से मेदे पर बहुत असर पड़ता है और मेदा कमजोर खो जाता है खाली पेट पानी पीना जोड़ों के दर्दो का सबब बनता है.
दोस्तों कुछ देशों में घुटने के मरीजों को खाली पेट पानी पीने से मना किया जाता है अब हम बात करते हैं उन ऑलमाओ की जो निहार मुंह पानी पीने के बारे में हदीस को बयान करते है और वह इस हवाले से कुछ हदीस और अब्दुल्ला इब्ने अब्बास रजि अल्लाह ताला अनु के कौल को बयान करते हैं और कुछ दिन भी माहिर इन के तजुर्बे को भी बयान करते हैं.
हजरत अब्दुल्लाह इब्ने अब्बास रजि अल्लाह ताला अनु से रिवायत है की रसुलुल्लह अलैहे वसल्लम ने उनसे फरमाया की इब्ने अब्बास क्या मैं तोहफे में तुम्हें वह बात ना बताओ जो मुझे जिब्राइल ने जादू होने की दौरान सिखाई थी तो तुम किसी बर्तन पर जाफरान की साथ सूरा अल फातिहा और दोनों बना देने वाली सूरत सूरह फलक और नास लिखो और सुरा एखलास और सूरे यासीन और सुरा जुमा लिखो और फिर उसमे थोड़ा ज़मज़म या फिर बारिश का पानी मिलाओ और दूध मिला कर पी जाओ।।आगे देखें वीडियो में।।

Leave a Reply

Your email address will not be published.