कोई मेरा गला काट सकता है लेकिन मुझे बता नहीं सकता कि मुझे क्या करना है: ममता बनर्जी

कोलकत्ता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कलकत्ता उच्च न्यायलय के दुर्गा पूर्जा और मुहर्रम अलग अलग दिन मनाने के फ़ैसले पर कहा कि जो शांति बनाए रखने के लिए करना होगा वो मैं करूंगी.

उन्होंने कहा कि कोई मेरा गला काट सकता है लेकिन मुझे ये नहीं बता सकता कि मुझे क्या करना है.

इसके पहले कल उच्च न्यायलय ने ममता बनर्जी सरकार को फटकारते हुए कहा था कि अगर त्यौहार एक ही दिन हैं तो फिर अलग अलग दिन क्यूँ मनाये जाएँ. इसके पहले ममता ने साम्प्रदायिक सद्भाव बना रहे इसकी वजह से कहा था कि दोनों त्यौहार अलग अलग रोज़ मनाये जाएँ ताकि कोई समस्या ना हो.

ममता बनर्जी लगातार भारतीय जनता पार्टी और उससे जुड़े संघटनों पर ये आरोप लगाती रही हैं कि पश्चिम बंगाल में ये साम्प्रदायिक सद्भाव बिगाड़ सकते हैं. बशीरहाट दंगे को उकसाने के आरोप में पश्चिम बंगाल सरकार ने कुछ भाजपा नेताओं पर कार्यवाही भी की है. पश्चिम बंगाल पुलिस ने भी सोशल मीडिया के ज़रिये अफ़वाह फैलाने और माहौल ख़राब करने के इलज़ाम में कई भाजपा कार्यकर्ताओं पर कार्यवाही की थी. इसी सब को देखते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री अब कोई चांस नहीं लेना चाहतीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.