सीएम केजरीवाल की सूचना पर यकीन करके अरुण जेटली के खिलाफ बयान दिया था: कुमार विश्वास

आम आदमी पार्टी  से नाराज चल रहे नेता कुमार विश्वास ने आज दिल्ली हाई कोर्ट में कहा कि केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के खिलाफ उनके बयान पार्टी कार्यकर्ता के रूप में अरविंद केजरीवाल से मिली सूचना पर आधारित था। हाईकोर्ट में मौजूद विश्वास ने जस्टिस राजीव सहाय एंडला से कहा कि कोई बयान देने या जेटली से माफी मांगने से पहले वह जानना चाहते हैं कि जब केजरीवाल ने कहा था कि केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ उनके आरोप दस्तावेजों पर आधारित है तब क्या उन्होंने झूठ बोला था।

बता दें कि केंद्रीय मंत्री ने इन लोगों के खिलाफ 10 करोड़ रूपये का मानहानि का मुकदमा दायर किया था। जेटली ने केजरीवाल और आप के 5 नेताओं के खिलाफ दिसंबर 2015 में एक मानहानि का मुकदमा दायर किया था। इन नेताओं ने जेटली पर दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन ( DDCA ) के अध्यक्ष रहते हुए वित्तीय अनियमितता करने का आरोप लगाया था।

बीजेपी नेता ने सभी आरोपों का खंडन किया था। जेटली की ओर से पेश हुये वकील माणिक डोगरा ने विश्वास की इस दलील को स्वीकार करने से इनकार कर दिया कि उन्होंने अपनी पार्टी के नेताओं का ही पालन किया था। डोगरा ने कहा कि पहले आरोप लगाते समय विश्वास ने दस्तावेज देखने का दावा किया था।

आप नेता ने अदालत से कहा कि वह यह निर्णय करने के लिये समय चाहते हैं कि वह क्या बयान देंगे ताकि इस मामले का निस्तारण किया जा सके क्योंकि व्यक्तिगत रूप से इसे आगे ले जाने में उनकी दिलचस्पी नहीं है।

विश्वास के अनुरोध पर कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 28 मई के लिये लिस्ट की है। आप नेता ने कहा कि केजरीवाल और दूसरों के फैसले लेने वाली प्रक्रियाओं में उन्हें शामिल किये बगैर माफी पर फैसला लिया। वो इसके बारे में , उनकी माफी के बारे जानकारी लेंगे जो जवाब अभी तक उन्हें नहीं मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.