लोकसभा चुना'व पर लगा हज़ारो करोड़ो का सट्टा,BJP-कांग्रेस को मिल रही हैं इतनी सीटें…

March 18, 2019 by No Comments

देश में होने वाले लोकसभा चुनाव को आप बहुत कम वक्त शेष रह चुका है।जहां सभी राजनीतिक दल लोकसभा चुनाव को लेकर चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है।इस मामले में अब सट्टा बाजार खुल गया है।गौरतलब है कि 11 अप्रैल को देश भर में लोकसभा चुनाव शुरू होने वाले हैं।हाल ही में भारतीय चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है।
जिसके बाद से ही सट्टा बाजार ने कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी पर दांव लगाने शुरू कर दिए हैं।खबर के मुताबिक अब तक सट्टा बाजार में 12 हजार करोड का सट्टा लग चुका है।खबर के मुताबिक सट्टा बाजार में यह चर्चा जोरों-शोरों से चल रही है कि अपने दम पर सरकार नहीं बनाएगी।यानी कि साल 2014 की तरह इस बार के लोकसभा चुनाव में किसी भी पार्टी के बहुमत हासिल करने के आसार नजर नहीं आ रहे।

बीजेपी-कांग्रेस


जानकारी के मुताबिक अभी तक का सट्टा बाजार में सटोरियों ने प्रधानमंत्री पद और महत्वपूर्ण सीटों पर कोई दांव नहीं चला है।सटोरियों की मानी जाए तो भारतीय जनता पार्टी इस बार बहुमत हासिल करने में नकामयाब रहेगी।इस बार अगर बीजेपी ने केंद्र सरकार बनाई तो उन्हें अन्य राजनीतिक दलों के साथ गठबंधन के साथ ही बनाएगी।लेकिन प्रधानमंत्री पद के लिए सहयोगी पार्टियां भी अड़ंगा डाल सकती हैं।
इस वक़्त सट्टा बाजार में सिर्फ दो ही पार्टियों पर सट्टा लगाया जा रहा है। वह दो राजनीतिक पार्टियां हैं बीजेपी और कांग्रेस।सट्टाबाजार में बीजेपी को बढ़त मिल रही है।बता दें कि सट्टाबाजार बीजेपी को 240 सीट दे रहा है।इस दौरान 23 पैसे का भाव है और 250 सीट पर 1 रुपये और 255 सीट पर 1.40 पैसे का भाव है।कांग्रेस का 60 सीट पर 28 पैसे का भाव है,65 सीट पर 67 पैसे भाव और 75 सीट पर कांग्रेस का 1 रुपये का भाव है।

पीएम मोदी- राहुल गांधी


गौरतलब है कि अगले महीने होने वाले चुनाव के नतीजे 23 मई को आएंगे। बताया जा रहा है कि इस बार के लोकसभा चुनाव के स चलते सटोरियों पुलिस और जांच एजेंसियों से बचने के लिए मोबाइल ऐप तैयार किया है।जिसका सर्वर भारत में नहीं बल्कि विदेशों में हैं।बताया जा रहा है कि भारत में सट्टोरियों ने कानून से बचने के लिए ऐप का सहारा लिया जा रहा है।लोकसभा चुनाव से पहले सट्टा बाजार में भारी मात्रा में सट्टा लगाया जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *