लखनऊ विश्विद्यालय में छात्रसंघ बहाली की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे छात्र

September 26, 2017 by No Comments

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी के मशहूर लखनऊ विश्विद्यालय में छात्र धरने पर बैठे हैं. छात्रसंघ की बहाली को लेकर 8 दिन से धरने पर बैठे इन छात्रों ने अपने धरने को आमरण अनशन में बदल दिया. कई राजनीतिक संघठनों से जुड़े छात्रों ने मिलकर ‘लखनऊ विश्विद्यालय छात्रसंघ बहाली मोर्चा’ बनाया है. इसके तहत मंगल को हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गई. इस दौरान हमने आमरण अनशन पर बैठे कुछ छात्रों से बात की और उनका पक्ष जानने की कोशिश की.

समाजवादी छात्रसभा के महेंद्र यादव कहते हैं कि हमारी मांग सिर्फ़ इतनी सी है कि चुनाव हो तो इसमें क्या परेशानी है. BHU की छात्राओं के समर्थन में बोलते हुए महेंद्र कहते हैं कि छात्राओं पर हुआ लाठीचार्ज निंदनीय है. उन्होंने कहा कि विश्विद्यालयों की स्थिति इस तरह से हो गयी है कि वीमेन सेल है या नहीं है ये भी नहीं पता चलता.. लड़कियाँ अपनी समस्या किसके पास लेकर जाएँ.

छात्रसभा से ही जुड़े माधुर्य सिंह मधुर ने कहा,” छात्र संघ बहाल कराने के लिए आंदोलनकारी विगत 8 दिनों से लगातार धरनारत थे और उसी धरने को आज हम आन्दोलनकारियो ने अनवरत धरना प्रदर्शन को आमरण अनशन में तब्दील कर दिया है। समाजवादी छात्रसभा के आशीष मिश्रा “बॉक्सर” ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि जब तक उनकी मांगे नहीं पूरी हुईं वो पूरे शहर में नंगे पैर घूमेंगे और सर पर बाल नहीं आने देंगे.

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़े अनुराग तिवारी कहते हैं कि छात्रसंघ की बहाली के लिए हम 8 दिन से यहाँ हैं लेकिन प्रशासन हमसे मिलने तक को तैयार नहीं है. वह कहते हैं कि क्या VC राज्य सरकार के समक्ष छात्रों का पक्ष नहीं रख सकते.”कर्मचारी संघ है, टीचर्स संघ है…अगर ये सब है तो छात्रसंघ से क्या चिंता है”, उन्होंने आगे कहा.

प्रदर्शनकारी छात्रों के समर्थन में प्रशांत मिश्रा ने कहा कि छात्रों को अपनी बात रखने का एक रास्ता छात्रसंघ चुनाव के ज़रिये मिलता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *