मध्य प्रदेश चुनाव 2018: शिवराज को कड़ा चेलेंज देने की कोशिश में अरुण यादव

November 22, 2018 by No Comments

भोपाल: मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की सियासी रणभूमि में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर है. कांग्रेस ने बीजेपी के सबसे बड़े चेहरे और सत्ता के सिंहासन पर काबिज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को उनके ही ‘घर’ में घेरने की रणनीति के तहत अरुण यादव को बुधनी सीट से उम्मीदवार बनाया है. ऐसे में देखना होगा कि शिवराज पांचवीं बार परचम फहराते हैं या फिर अरुण उनकी राह में रोड़ा बनते हैं?

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव को कांग्रेस ने जबसे मैदान में उतारा है। यादव नामांकन भरने के बाद से विधानसभा क्षेत्र में ही डेरा डाले हुए हैं और गांव-गांव, गली-गली घूम रहे हैं। यादव कहते है, “उनका नर्मदा नदी से नाता है। उनके खेतों की सिंचाई नर्मदा नदी के पानी से होती है और वे नर्मदा के किनारे बसे बुधनी से चुनाव लड़ रहे हैं।”

उधर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी हो गया है ,मध्य प्रदेश में तीन बार से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ चुनावी मैदान में उतरे कांग्रेसी उम्मीदवार अरुण यादव ने कहा कि वह बुधनी में एक ‘‘शैतान’’ से लड़ रहे हैं। यादव ने चौहान पर ‘‘अत्यधिक अत्याचार’’ करके अपने क्षेत्र और पूरे राज्य के लोगों को धोखा देने का आरोप लगाया। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष यादव ने कहा कि इसमें कोई दो राय नहीं कि कांग्रेस 15 साल सत्ता से बाहर रहकर इसे फिर से हासिल करने के लिए बड़ी जंग लड़ रही है लेकिन उन्हें चौहान के खिलाफ जीत का पूरा भरोसा है। बहरहाल बुधनी में चुनाव रोचक है। वजह यहां दो पिछड़ों का चुनाव मैदान में होना है। चौहान भी इसी वर्ग से आते हैं, तो यादव भी इसी वर्ग से हैं। दोनों के अपने-अपने तर्क हैं। वे अपनी-अपनी उपलब्धियां गिना रहे हैं। यादव ने जहां नर्मदा की दुर्दशा और अवैध खनन को मुद्दा बनाया है, तो भाजपा विकास का बखान कर रही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *