बदलते सियासी समीकरण में ममता बनर्जी ने की उद्धव ठाकरे से मुलाक़ात

2019 लोकसभा चुनाव से पहले जिस क़िस्म के समीकरण बन रहे हैं उसको देखते हुए ऐसा लग रहा है पुराने विरोधी पास आयेंगे और पुराने क़रीबी दूर जायेंगे.जहां एक ओर बिहार में जदयू की बग़ावत से विपक्ष को बड़ा फ़ायदा होने की उम्मीद है वहीँ गुजरात में युवा नेताओं के कांग्रेस के क़रीब आ जाने से भी भाजपा को झटका लग रहा है.

इसी बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी महाराष्ट्र के दौरे पर हैं. मुंबई में उन्होंने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाक़ात की. दोनों नेताओं की इस मुलाक़ात के कई मायने निकाले जा रहे हैं. पिछले कई दिनों से जिस तरह से शिवसेना ने मोदी सरकार की नीतियों का विरोध किया है उससे वो विपक्ष के नज़दीक आयी है. ऐसे में विपक्ष की बड़ी नेता का शिवसेना प्रमुख से मिलना बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

हालाँकि शिवसेना ने इस मीटिंग के सिलसिले में कहा है कि ये सिर्फ़ कर्टसी मीटिंग है और इसका कोई भी अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए.

भाजपा नेता राम कदम शिवसेना के रवैये पर कमेंट करते हुए कहते हैं कि शिवसेना की दोनों तरफ़ से ढोल बजाने की पुरानी आदत है, इन्हें सत्ता में भी रहना और विपक्ष में भी.

पिछले कुछ दिनों में शिवसेना ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के नेतृत्व की भी तारीफ़ की है. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि अब मोदी लहर फीकी पड़ चुकी है. शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नोटबंदी और GST की लगातार आलोचना की है. शिवसेना के मुखपत्र में भी मोदी सरकार की नीतियों का लगातार मज़ाक़ उड़ाया जाता रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.