भाजपा वोट के लिए भगवान् राम का नाम बेचती है: ममता बनर्जी

November 27, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: राम मंदिर के मुद्दे को गरमाने की भाजपा और संघ परिवार की चौतरफा कोशिश पर विपक्षी दल भी हमलावर हो गए है। सभी राजनैतिक दल इस मुद्दे को अपने पक्ष में भुनाने और हिन्दू वोट को अपने पक्ष में करने के लिए तरह-तरह की बयानबाजी कर रहे हैं और खुद को दूसरे से श्रेष्ठ बताने का प्रयास कर रहे हैं। इसी कड़ी में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा, आरएसएस और विश्व हिन्दू परिषद को जमकर कोसा। ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि भाजपा भगवान राम का नहीं बल्कि रावण की उपासक है।

बता दें कि तमाम विपक्षी दलों का मानना है कि 2019 के सियासी संग्राम में मोदी सरकार के खिलाफ बढ़ रही नाराजगी को धार्मिक ध्रुवीकरण के सहारे थामने की भाजपा की रणनीति में शक की गुंजाइश नहीं बची है। प० बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि भगवान के नाम पर वोट बटोरने का काम करती है। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा रावण की पूजा करते हैं, राम का नहीं। ममता ने भाजपा पर भगवान के नाम पर लोगों को बांटने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा राम की बात करते हैं और हम देवी दुर्गा की पूजा करते हैं। भगवान राम ने भी मां दूर्गा की पूजा की थी। ममता ने कहा तृणमूल कांग्रेस सर्वधर्म की बात करती है जबकि भाजपा धर्म के आधार पर लोगों में भेदभाव करती है और वोट हासिल करने के लिए भगवान राम का नाम बेचती है।

पांच राज्यों के चुनाव से जुड़े कांग्रेस के एक अहम रणनीतिकार ने कहा कि मध्यप्रदेश और राजस्थान के चुनाव में भी मंदिर के बहाने भाजपा ध्रुवीकरण के सियासी तापमान की थाह लगाने की कोशिश कर रही है। उनके मुताबिक राजस्थान में भाजपा की हालत गंभीर मानी जा रही है। जबकि मध्यप्रदेश के चुनावी समर से भी पार्टी की स्थिति डांवाडोल होने की रिपोर्ट है और पीएम का खुद अयोध्या मुद्दे को उठाना इसका साफ संकेत है। बता दें कि भाजपा ने 2014 के आम चुनाव के दौरान कहा था कि यदि उनकी सरकार सत्ता में आती है तो राम मंदिर का निर्माण कराया जाएगा। लेकिन अब जब मोदी सरकार के साढ़े चार वर्ष बीत गए लेकिन राम मंदिर पर कोई भी कार्रवाई आगे नहीं बढ़ पाई है। इसलिए हिन्दू समाज और साधू-संत गुस्से में आ गए है। 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *