गुजरात चुनाव में भाजपा के लिए मुसीबत बने हार्दिक पटेल; पाटीदार नेता की रैलियों में उमड़ रहा है जनसैलाब

December 6, 2017 by No Comments

हार्दिक पटेल, गुजरात की राजनीति में एक ऐसा नाम बनकर उभरे हैं। जिससे बीजेपी को मुकाबला करना आग का दरिया पार करने से कम नहीं लग रहा है। गुजरात चुनाव में अभी 3 दिन ही बाकी रह गए हैं। बीजेपी और कांग्रेस चुनाव प्रचार करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल पाटीदार समुदाय के अधिकारों के लिए आगू हैं और अब वह कांग्रेस को समर्थन कर रहे हैं।

राज्य का एक बड़ा और अहम हिस्सा जिनके सिर पर बीजेपी गुजरात में दो दशकों से सत्ता को बरकरार रखने में सफल रही है, इस विधानसभा चुनाव में उनके खिलाफ हैं। दरअसल पाटीदार समुदाय बीते साल से गुजरात सरकार से अपने अधिकारों की मांग कर रहा है। जिससे सरकार से उनसे मुंह मोड़ लिया था।

हार्दिक पटेल और अन्य पाटीदार नेताओं ने बीजेपी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है। जिसके चलते हार्दिक पटेल कर उनके साथियों पर राजद्रोह का केस भी चलाया गया है। लेकिन हार्दिक इस बार बीजेपी को हराने के लिए तमाम कोशिशें कर रहे हैं। हार्दिक राज्यभर में चुनाव प्रचार करते हुए जनसभाओं को संबोधित कर रहे हैं।

उनकी जनसभाओं में उमड़ रही भीड़ से साफ़ है कि इस बार पाटीदार समुदाय हार्दिक पटेल की साथ है और बीजेपी के खिलाफ अपनी लड़ाई के लिए तैयार है। जिसका नतीजा इस विधानसभा चुनाव में देखने को मिल सकता है। गुजरात की जनता पर हार्दिक के बढ़ रहे प्रभाव को लेकर बीजेपी सकते में आ गई है।

ये कहना गलत नहीं होगा की आंतरिक तौर पर बीजेपी को अपनी हार की संभावनाएं नजर आने लगी हैं। दूसरी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने बीजेपी को घेरा हुआ है। यूं कहें तो बीजेपी के चुनावी भाषणों में इस्तेमाल किये जाने वाले बयानों पर लगातार निशाना साध कर राहुल गाँधी ने लोगों को उनकी सच्चाई से रूबरू कराने का बीड़ा अपने सिर पर उठाया है। गुजरात विधानसभा चुनाव में हो रहे इस घमासान को पूरी तरह से एनालाइज करने वाले कुछ खास सूत्रों का कहना है कि इस बार बीजेपी द्वारा किये जा रहे तमाम दावों के बावजूद इस बार उनका जीत हासिल कर पाना काफी मुश्किल है, क्यूंकि इस बार कांग्रेस ने गुजरात के युवा नेताओं के साथ मिलकर बीजेपी को चौतरफा घेरे में लिया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *