मशहूर धर्मगुरु एवं सांसद कासमी अब इस दुनिया में नही रहे,मुस्लिमो में…

बिहार से निर्वाचित सांसद असररुल हक कासमी जाने माने राजनेता ही नही बल्कि धर्म गुरु भी थे,वो दारुल उलूम देओबंद जैसे इस्लामिक शिक्षण संसथान के मजलिसे शुरा के रुकून भी थे.वो बिहार यूनिट के जमात ऐ उलेमा ऐ हिंद के सदर भी थे.लेकिन कल रात मौलाना असरारुल हक कासमी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया.मौलाना कासमी ने इस्लाम के प्रचार प्रसार और दीन के लिए काफी काम किया था.

मौलाना असरारुल हक कासमी बिहार के किशनगंज लोकसभा क्षेत्र से लगातार दो बार सांसद रहे है.मौलाना असरारुल हक कासमी का गुरुवार रात को निधन हो गया है.गुरुवार देर रात किशनगंज के सर्किट हाउस में उन्होंने आखिरी सांस ली.उन्हें हार्ट अटैक आया था.कांग्रेस सांसद मौलाना असरारुल हक कासमी गुरुवार की रात एक जलसे में भाग लेने गए थे,जिसके बाद उनकी तबियत बिगड़ गई और निधन हो गया.अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव ताराबाड़ी में किया जाएगा.

मौलना कासमी

कासमी कांग्रेस के टिकट पर किशनगंज लोकसभा सीट से लगातार दूसरी बार सांसद चुने गए थे.उन्होंने पहली बार 2009 में पहली बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे थे.बता दें कि मौलाना असरारुल हक कासमी का जन्म 15 जनवरी, 1942 में हुआ था.उन्होंने दारुल उलूम,देवबंद से शिक्षा हासिल की थी.वो बिहार में कई मदरसे का संचालन करते थे.कासमी राजनीति में कई बार किस्मत आजमाई,लेकिन पहली बार सफलता 2009 में मिली.इसके बाद 2014 में मोदी लहर के बाद भी उन्होंने जीत हासिल की थी.

जमाते उलेमा हिन्द के प्रवक्ता मुहम्मद मूसा कासमी ने एक पोस्ट लिखकर कासमी के निधन की जानकारी दी,उन्होंने लिखा-अफसोसनाक ख़बर,मारूफ आलिम ए दीन बिहार किशनगंज से सांसद और दारुल उलूम देवबन्द के मजलिस ए शूरा के सदस्य हज़रत मौलाना असरारुल हक़ क़ासमी अब हमारे बीच नही रहे,मौलाना का दिल का दौरा पड़ने से इंतक़ाल हो गया,उनकी नमाज़े जनाज़ा जुमे के बाद उनके आबाई वतन में होगी,मिल्लत ए इस्लामिया हिन्द और देश के लिये बहुत बड़ा झटका है,अल्लाह उनके दरजात बुलन्द फ़रमाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.